महाराष्ट्र के 6 से ज्यादा जिलों में बारिश से तबाही – रत्नागिरी का चिपलून शहर बाढ़ में डूबा

मुंबई में भारी बारिश से 30 से ज्यादा लोगों की मौत
Share

मुंबई  (कार्यालय संवाददाता)।  कोरोना महामारी से उबरने की कोशिश में लगा महाराष्ट्र अब मानसून की दोहरी मार से परेशान है। राज्य के कोंकण क्षेत्र में पिछले कुछ दिनों से हो रही बारिश के कारण रत्नागिरी और रायगढ़ जिलों में कोहराम मचा हुआ है। इसके साथ ही यवतमाल, ठाणे, कोल्हापुर, अकोला और मुंबई में भी बारिश से भारी नुकसान हुआ है।

इस बीच सेंट्रल रेलवे को दर्जनों ट्रेनों को रद्द करना पड़ा है तो कई का रास्ता बदला गया है और 50 से अधिक ट्रेनों का सफर छोटा करना पड़ा। सेंट्रल रेलवे ने कहा है कि राज्य में भारी बारिश की वजह से 48 ट्रेनें को रद्द किया गया है। 33 का रूट बदलना पड़ा तो 51 का सफर छोटा किया गया है। बारिश का सबसे ज्यादा नुकसान रत्नागिरी जिले में देख गया है। यहां नदियों और डेम के ओवफ्लो होने के कारण चिपलून शहर बाढ़ के पानी में डूब गया है। यहां शहर और गलियों में 15 से 20 फीट तक पानी भर गया है। चिपलून बस स्टैंड में खड़ी बसों का सिर्फ ऊपरी हिस्सा दिख रहा है। घरों का सामान पानी में तैर रहा है। सड़कों पर खड़ी कारें जल समाधि ले चुकी हैं। वहीं, इस रूट से गुजरने वाली ट्रेनों में भी 6 हजार से ज्यादा लोग पानी में फंसे हुए हैं। वहीं करीब 2 लाख से ज्यादा लोग अपने घरों में फंसे हुए हैं।

मुंबई-गोवा राजमार्ग भी बंद किया गया

मुंबई से करीब 240 किलोमीटर दूर चिपलून राज्य का सबसे प्रभावित शहर है। यहां बचाव अभियान जारी है। फंसे हुए लोगों को रेस्क्यू टीम सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा रही है। शहर में भीषण बाढ़ के कारण मुंबई-गोवा राजमार्ग भी बंद कर दिया गया है। बताया जा रहा है कि कल देर रात वाशिष्ठी नदी के साथ-साथ एक बांध कल रात बह गया, जिसके बाद पानी शहर की ओर बढऩे लगा।


Share