टूरिज्म को बढ़ावा देने रेलवे का बड़ा फैसला- अब प्राइवेट कंपनियां भी कराएंगी ट्रेन से पर्यटन स्थलों की सैर

जल्द ही 100 और ट्रेनें चलाएगा रेलवे
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। अब वह दिन दूर नहीं जबकि आप अपने प्रिय पर्यटन स्थलों की सैर ट्रेन से कर सकेंगे। पर्यटकों को ट्रेन से भ्रमण कराने के लिए अधिक से अधिक प्राइवेट पार्टी हिस्सा ले, इसके लिए रेल मंत्रालय ने अपनी नीतियों को बदलने का फैसला किया है। निजी कंपनियों को ट्रेन कैसे किराये पर मिलेगी, इसके लिए विस्तृत दिशा-निर्देश बनाए जा रहे हैं।

थीम बेस्ड पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा

रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस समय सीमित संख्या में टूरिस्ट ट्रेन चलाए जा रहे हैं। इनमें भी अधिकतर ट्रेन धार्मिक पर्यटन स्थलों की सैर कराते हैं। पर्यटन का मतलब सिर्फ धार्मिक पर्यटन ही नहीं होता है। इस क्षेत्र की संभावानाओं का अधिक से अधिक दोहन हो सके, इसके लिए रेलवे ने इच्छुक पार्टी को ट्रेन लीज पर देने का फैसला किया है। इससे नए नए टूरिज्म सर्किट खुलेंगे।

5 साल के लिए ट्रेन दिए जाएंगे लीज पर

रेलवे बोर्ड  से मिली जानकारी के अनुसार इच्छुक पार्टी को ट्रेन कम से कम पांच साल तक के लिए लीज पर दिए जाएंगे। ट्रेन की लीज की अवधि बढ़ाई भी जा सकेगी, यदि डिब्बे की आयु और बचेगी। संबंधित पक्ष का कम से कम उतने डिब्बे किराये पर लेने होंगे, जिससे कि एक ट्रेन तो तैयार हो ही जाए। उन्हें टूरिस्ट सर्किट का रूट, स्टॉपेज, टैरिफ आदि डिसाइड करने का अधिकार मिलेगा।

हॉलेज चार्ज देना होगा

टूरिस्ट ट्रेन चलाने वाली पार्टी से भारतीय रेल हॉलेज चार्ज वसूलेगा। यदि लीज पर ट्रेन ली जाती है तो उन्हें लीज चार्ज भी देना होगा। हालांकि, यदि कोई एकमुश्त ट्रेन की खरीदी करते हैं तो उन्हें लीज चार्ज नहीं देना होगा। पर उन्हें नॉमिनल स्टेंपिंग चार्ज तो देना ही होगा। यदि ट्रेन को मेंटनेंस के लिए कहीं ले जाया जाता है तो फिर रेलवे उससे हॉलेज चार्ज नहीं वसूलेगा।


Share