संसद में राहुल ने प्र.म. मोदी के लिए चुना नया ‘शब्दबाण’

Share

जो प्र.म. ने माफी मांगी है… जो प्र.म. ने माफी मांगी है…’

नई दिल्ली (एजेंसी)। ‘जो प्र.म. ने माफी मांगी है…’। कांग्रेस ने संसद में प्र.म. मोदी को घेरने के लिए अपना यह नया ‘शब्दबाण’ तैयार कर लिया है। लोकसभा में मंगलवार को कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने इसका इस्तेमाल किया। दो मिनट में उन्होंने तीन बार इसे प्र.म. मोदी पर छोड़ा।

रणनीति बदल गई, शब्द भी

तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने के बाद भी कांग्रेस ने किसानों के मुद्दे पर सरकार को घेरने की रणनीति नहीं छोड़ी है। इसके लिए संसद में प्र.म. मोदी के शब्दों से ही उन पर वार की नई रणनीति दिखाई दी। राहुल गांधी जब लोकसभा में किसान आंदोलन में मारे गए किसानों को मुआवजे और नौकरी की मांग के मुद्दे पर बोलने के लिए उठे, तो उन्होंने शुरूआती प्र.म. मोदी के शब्दों से की।

राहुल ने कहा, जैसा पूरा देश जानता है किसान आंदोलन मे करीब 700 किसान शहीद हुए हैं। प्रधानमंत्री जी ने देश से और देश के किसानों से माफी मांगी। उन्होंने स्वीकार किया कि उन्होंने गलती है। अपने कुल दो मिनट के संबोधन में उन्होंने तीन बार प्र.म. मोदी के कृषि बिलों के लिए माफी मांगने का जिक्र किया। यह देखने वाली बात होगी कि प्र.म. मोदी उन पर कटाक्ष की इस नई रणनीति पर राहुल को किस तरह से जवाब देते है।

किसानों की मौत का मुद्दा उठाया : शून्यकाल में बोलते हुए राहुल गांधी ने निरस्त कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन के दौरान मारे गए किसानों का मुद्दा उठाया। राहुल ने कहा, 30 नवंबर को कृषि मंत्री से सवाल पूछा गया था कि किसान आंदोलन में कितने किसान शहीद हुए। उन्होंने कहा था कि हमारे पर कोई डेटा नहीं है। हमने पता लगाया कि पंजाब की सरकार ने करीब 400 किसानों को 5 लाख का मुआवजा दिया है। इसके अलावा 152 किसानों को रोजगार दिया गया है। यह लिस्ट मेरे पास है। एक और लिस्ट हमने बनाई है। 70 किसानों की जो हरियाणा की है।

‘कृषि मंत्रालय के पास आंकड़ा नहीं’ : राहुल ने कृषि मंत्री के जिस जवाब का जिक्र किया, वह सत्र के दूसरे दिन पूछा गया था। तब सरकार ने कहा था कि दिल्ली के आसपास कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान मृत किसानों की संख्या संबंधी आंकड़ा कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के पास नहीं है। लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने यह जानकारी दी थी।


Share