नड्डा पर हमले के समय तैनात आईपीएस का प्रमोशन

नड्डा पर हमले के समय तैनात आईपीएस का प्रमोशन
Share

-केंद्र ने डेपुटेशन पर बुलाया था

कोलकाता (एजेंसी)। पश्चिम बंगाल में भाजपा और सत्ताधारी टीएमसी के बीच दांवपेंच जारी हैं। यहां 10 दिसंबर को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा के काफिले पर हमला हुआ था। इस दौरान सुरक्षा का जिम्मा जिन आईपीएस अधिकारियों पर था, उन्हें केंद्र ने प्रतिनियुक्ति (डेपुटेशन) पर दिल्ली बुलाने का आदेश जारी कर दिया। लेकिन ममता ने न सिर्फ इस आदेश को अनसुना किया बल्कि मंगलवार उन अधिकारियों में एक- राजीव मिश्रा को प्रमोशन भी दे दिया।

मिश्रा दक्षिण बंगाल पुलिस जोन में महानिरीक्षक (आईजी) थे। उन्हें यहीं अपर पुलिस महानिदेशक (एडीजी) बना दिया गया है। डायमंड हार्बर जिला पुलिस अधीक्षक भोलानाथ पांडेय को एसपी होमगार्ड के पद पर ट्रांसफर किया गया। वहीं एक अन्य आईपीएस  डीआईजी प्रवीण कुमार त्रिपाठी अब भी वहीं तैनात हैं। राजीव मिश्रा के साथ-साथ पांडेय और त्रिपाठी भी नड्डा की सुरक्षा व्यवस्था में तैनात थे।

केंद्र ने प्रतिनियुक्ति पर बुलाया था

नड्डा के काफिले पर पथराव के बाद इन तीनों अधिकारियों को केंद्रीय गृह मंत्रालय ने 16 दिसंबर को केंद्र में डेपुटेशन पर बुलाया था। इनमें से मिश्रा को आईटीबीपी, पांडे को ब्यूरो ऑफ पुलिस रिसर्च एंड डेवलपमेंट और त्रिपाठी को एसएसबी में भेजा गया था, लेकिन ममता सरकार ने इनमें से किसी को रिलीव नहीं किया था।

भाजपा ने उकसावे वाला कदम बताया

मिश्रा को प्रमोशन दिए जाने के फैसले को भाजपा नेता शाहनवाज हुसैन ने ‘उकसावे वाला कदम’ बताया है। उन्होंने पूछा कि जिस अधिकारी पर नड्डा के काफिले पर हमले को लेकर कार्रवाई होनी चाहिए थी, उन्हें प्रमोशन दिया गया है। यह एक तरह से संकेत है कि भाजपा नेताओं पर हमला करने वालों को इनाम मिलेगा।


Share