आईआईटी कानपुर के प्रोफेसर का दावा:-कुछ राज्य अगले एक हफ्ते में कोविड पीक को पार करेंगे

Professor Maninder Agrawal of IIT Kanpur has claimed that Kovid in India will end by the end of February.
Share

देश में कोविड फरवरी अंत तक खत्म होगा, एक्सपर्ट ने दिल्ली में इस महीने के अंत तक कोरोना समाप्त होने का दावा किया

नई दिल्ली (एजेंसी)। देश में बढ़ते कोरोना के मामलों के बीच टेंशन कम करने वाली जानकारी सामने आई है। आईआईटी कानपुर के प्रोफेसर मनिंदर अग्रवाल ने दावा किया है कि भारत में कोविड फरवरी के अंत तक खत्म हो जाएगा। उन्होंने कहा, अब तक किसी बड़े राज्य ने कोविड पीक को पार नहीं किया है। कुछ राज्य अगले एक हफ्ते में कोविड पीक को पार करेंगे। साथ ही प्रोफेसर अग्रवाल का दावा है कि देश की राजधानी दिल्ली में 2 दिन पहले कोरोना पीक पर पहुंच गया है और इस महीने के अंत तक दिल्ली में कोरोना समाप्त हो जाएगा।

-दिल्ली में 12 हजार के पार कोरोना केस

दिल्ली में सोमवार को 12,527 नए मामले सामने आए तथा इस बीमारी के कारण 24 और लोगों की मौत हो गई। इसके साथ ही राष्ट्रीय राजधानी में संक्रमण दर 27.99 प्रतिशत रही। हालांकि, संक्रमण का पता लगाने के लिए एक दिन पहले सिर्फ 44,762 नमूनों की जांच की गई। राष्ट्रीय राजधानी में रविवार को संक्रमण के 18,286 मामले आए थे तथा और महामारी से 28 और लोगों की मौत हुई थी। संक्रमण दर कल 30.64 प्रतिशत से घटकर 27.87 प्रतिशत हो गई थी।

स्वास्थ्य विभाग ने एक बुलेटिन में कहा कि दिल्ली में सोमवार को कोविड-19 के 12,527 नए मामले सामने आए तथा इस बीमारी से 24 और लोगों की मौत हो गई। इसने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में सोमवार को संक्रमण दर 27.99 प्रतिशत दर्ज की गई। इससे पहले, दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा था कि दिल्ली में रविवार को संक्रमण के जितने मामले सामने आए थे, उसके मुकाबले सोमवार को कम से कम 4,000-5,000 मामले कम आने की संभावना है।

दिल्ली में शनिवार को संक्रमण के 20,718 मामले सामने आए थे तथा 30 और लोगों की मौत हुई थी। वहीं, शुक्रवार को दिल्ली में महामारी के 24,383 नए मामले सामने आए थे तथा इससे 34 और लोगों की मौत हुई थी। राष्ट्रीय राजधानी में गुरूवार को संक्रमण के 28,867 मामले सामने आए थे और यह संख्या महामारी के प्रकोप के बाद से यहां सर्वाधिक थी। दिल्ली में इससे पहले, पिछले साल 20 अप्रैल को 28,395 के आंकड़े के साथ संक्रमण के सर्वाधिक मामले दर्ज किए गए थे।


Share