यूपी में खोई हुई जमीन पाने के लिए प्रियंका ने बनाया है प्लान

यूपी में खोई हुई जमीन पाने के लिए प्रियंका ने बनाया है प्लान
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। कांग्रेस के भीतर प्रियंका गांधी वाड्रा को जब पद दिया गया, तभी यह तय था कि उनका फोकस उत्तर प्रदेश पर रहेगा। हाल के दिनों में पार्टी की रणनीति, उसके तेवरों पर प्रियंका की झलक साफ दिखती है। विवादित कृषि बिलों के खिलाफ संसद से लेकर सड़क तक विरोध करना हो या हाथरस कांड में आगे बढ़कर राजनीतिक विरोध की कमान अपने हाथ में लेना, प्रियंका के नेतृत्व में कांग्रेस एक सोची-समझी रणनीति के तहत आगे बढ़ रही है। मकसद है उत्तर प्रदेश में हाशिए पर जाने से पहले जो तबके उसका वोटर बेस हुआ करते थे, उन्हें फिर से अपने पाले में लाना।

वाल्मीकि समाज के वोटों पर है प्रियंका की नजर

कांग्रेस के आक्रामक रूख को वाल्मीकि वोटों के ऐंगल से भी समझा जा सकता है। दलित वर्ग में आने वाली यह उपजाति भाजपा के साथ रही है। फिलहाल सत्ताधारी भाजपा के खिलाफ वाल्मीकि समाज के लोगों में उबाल है और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) कहीं पिक्चर में ही नहीं है। हाथरस जाने से रोके जाने पर प्रियंका शुक्रवार को दिल्ली के एक वाल्मीकि मंदिर पहुंच गईं। पार्टी के एक नेता ने कहा, कोई पार्टी किसी सामाजिक वर्ग को तभी जीत पाती है जब वह उसके लिए लड़ती है। भाजपा ने 2017 के विधानसभा चुनाव में जिस तरह सभी जातियों के बीच समर्थन पाया, उसके बाद पार्टियां उन समूहों को वापस पाने के लिए केवल कोशिश कर सकती हैं। हम आक्रामक ढंग से ऐसा कर रहे हैं।

हालांकि उत्तर प्रदेश में कांग्रेस जैसी पार्टी का भाग्य पलटेगा, यह कहना अभी जल्दबाजी होगी। लेकिन प्रियंका की अगुवाई में पार्टी उन जातियों और समुदायों पर फोकस कर रही है जिनसे पहले उसकी नजदीकी थी, मगर अभी उम्मीद नहीं देखती।


Share