सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार ने दी चेतावनी – ‘कोरोना की तीसरी लहर भी आएगी,कोई रोक नहीं सकता’

कोरोना की दूसरी लहर : 3007 पॉजिटिव मिल
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। कोरोना की तीसरी लहर भी आएगी। इसे कोई नहीं रोक सकता है। हालांकि, यह कब आएगी और यह कैसे इफेक्ट करेगी, अभी कहना मुश्किल है। लेकिन, इसके लिए तैयार रहना होगा। सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार के. विजय राघवन ने यह चेतावनी दी है। राघवन ने कहा कि कोरोना के नए वैरिएंट सामने आ रहे हैं। इन्होंने संक्रमण की रफ्तार बढ़ाई है।

कोरोना के नए स्ट्रेन से निपटने के लिए वैक्सीन को भी अपडेट करने की जरूरत होगी। राघवन के अनुसार, वैक्सीन कोरोना के मौजूदा वैरिएंट के खिलाफ कामयाब है। भारत सहित दुनियाभर में कोरोना के नए वैरिएंट सामने आएंगे। तमाम वैज्ञानिक इन अलग-अलग किस्मों का मुकाबला करने की तैयारी कर रहे हैं।

सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार ने कहा कि जिस तरह से यह वायरस बढ़ रहा है, उसे देखते हुए तीसरी लहर अपरिहार्य है। लेकिन, यह कब और किस पैमाने पर आएगी, इसके बारे में कुछ भी कह पाना मुश्किल है। वहीं, स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि पिछले 24 घंटों में देश में कोरोना के 3,82,315 मामले दर्ज किए गए हैं। 12 राज्य ऐसे हैं जहां 1 लाख से ज्यादा सक्रिय मामले हैं। 50,000 से 1,00,000 सक्रिय मामले 7 राज्यों में हैं। 17 राज्यों में 50,000 से कम सक्रिय मामले हैं। लव अग्रवाल ने बताया कि रोजाना आधार पर कोविड के मामले करीब 2.4 फीसदी की रफ्तार से बढ़ रहे हैं। इस दौरान मरने वालों की संख्या में भी इजाफा हुआ है। देश में 24 राज्य और केंद्र शासित प्रदेश ऐसे हैं जहां 15 फीसदी से ज्यादा पॉजिटिविटी रेट है।

10 राज्यों में 5-15 फीसदी पॉजिटिविटी रेट है। वहीं, 3 राज्यों में 5 फीसदी से कम पॉजिटिविटी रेट है। अग्रवाल ने कहा कि महाराष्ट्र, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, दिल्ली और हरियाणा में मौत के ज्यादा मामले देखने को मिल रहे हैं। कुछ जगहों को लेकर काफी चिंता है।

बेंगलुरू में बीते हफ्ते कोरोना के करीब 1.49 लाख मामले देखने को मिले। चेन्नई में 38,000 मामले सामने आए। कुछ जिलों में कोविड के मामले तेजी से बढ़े हैं। इनमें कोझिकोड, एर्नाकुलम, गुरूग्राम शामिल हैं। वैक्सीनेशन के लिए 1 मई से नई मुहिम शुरू हुई है। 9 राज्यों में इसका आगाज हुआ है। इसके तहत 18-44 साल की उम्र के 6.71 लाख लोगों को वैक्सीन दी गई है। महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश और आंध्र प्रदेश में कोरोना के करीब 1.5 लाख सक्रिय मामले हैं।

नई दिल्ली (एजेंसी)। बीते कुछ सप्ताह से भारत में बड़े संकट की वजह बना कोरोना वायरस आने वाले दिनों में और कहर बरपा सकता है। आने वाले कुछ सप्ताह में कोरोना संक्रमण से होने वाली मौतें दोगुनी हो सकती हैं। कुछ रिसर्च मॉडल्स में दावा किया गया है कि फिलहाल कोरोना से जितनी मौतें हो रही हैं, उससे दोगुना आंकड़ा अगले कुछ सप्ताह में हो सकता है। बेंगलुरू स्थित इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ साइंस के मुताबिक यदि कोरोना से मरने वालों की यही रफ्तार रही तो 11 जून तक मौतों का आंकड़ा 404,000 के पार पहुंच सकता है। इसके अलावा यूनिवर्सिटी ऑफ वॉशिंगटन स्थित इंस्टिट्यूट फॉर हेल्थ मीट्रिक्स एंड इवैल्युएशन के मुताबिक जुलाई के अंत तक कोरोना से मरने वालों की संख्या 10 लाख के पार पहुंच सकती है।

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक भारत जैसी घनी आबादी वाले देशों में कोरोना संक्रमण के मामलों को लेकर किसी भी तरह की भविष्यवाणी करना आसान नहीं है।

ज्यादातर संस्थानों ने अपनी स्टडी में कहा है कि भारत में टेस्टिंग और सोशल डिस्टेंसिंग को बढ़ाने की जरूरत है। यही नहीं यदि ज्यादा अनुमानों को खारिज भी कर दें, तब भी आने वाले कुछ महीनों में भारत कोरोना से मरने वाले लोगों की संख्या के मामले में पहला देश हो सकता है। फिलहाल 578,000 लोगों की मौत के साथ अमेरिका पहले नंबर पर है।


Share