सोशल डिस्टेंस के साथ नीले मास्क में नजर आए प्र.म. मोदी

सोशल डिस्टेंस के साथ नीले मास्क में नजर आए प्र.म. मोदी
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। कोरोना महामारी के कारण लोकसभा में मानसून सत्र के पहले दिन का नजारा सोमवार को बहुत कुछ बदला हुआ नजर आया। सदस्यों की बैठने की जगह बदली हुई थी और एक सदस्य से दूसरे के बीच काफी फासला होने के साथ ही शीशा लगाया गया है। आगे की जिन सीटों पर दो सदस्य बैठते थे वहां एक के ही बैठने की व्यवस्था की गयी है। सीट के पीछे नम्बर लिखा है और जिस सीट पर नम्बर पट्टी चिपकी है वहीं सदस्य को बैठना है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कार्यवाही शुरू होने से पांच मिनट पहले ही सदन में पहुंच गये थे। उनके बगल में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के बैठने की जगह होती है लेकिन इस बार सिंह को एक सीट छोड़कर गृहमंत्री अमित शाह की सीट पर बिठाया गया। आगे की सीट पर शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक और उनकी बगल में सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर बैठे लेकिन जावड़ेकर को सोशल डिस्टेंस का एहसास हुआ तो वह तुरंत पीछे की सीट पर चले गये। बाद में एक और मंत्री उनकी जगह पर आकर बैठ गये।

कोरोना वायरस महामारी से जुड़े दिशानिर्देशों का पालन करते हुए सोमवार को संसद के मानसून सत्र का आगाज हुआ। लोकसभा की बैठक में शामिल हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मंत्री और सदस्य मास्क पहनकर पहुंचे और सामाजिक दूरी की अनुपालना सुनिश्चित की। प्रधानमंत्री मोदी ने नीले रंग का थ्री प्लाई मॉस्क पहन रखा था तो वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और लोक जनशक्ति पार्टी के प्रमुख चिराग पासवान मधुबनी मास्क पहने नजर आए। तृणमूल कांग्रेस के कल्याण बनर्जी तथा कुछ सदस्य फेस शील्ड पहनकर सदन में पहुंचे। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी सफेद रंग का मास्क पहनकर अपने आसन पर पहुंचे। सदन में सदस्यों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए हर सीट के आगे प्लास्टिक शील्ड कवर लगाया गया था।

सदन में बैठने की बदली हुई व्यवस्था के बीच कई सदस्यों को उनके स्थान तक पहुंचने में सहायक मदद करते भी दिखे। लोकसभा चैम्बर में करीब 200 सदस्य मौजूद थे तो लगभग 30 सदस्य गैलेरी में थे। लोकसभा चैम्बर में ही एक बड़ा टीवी स्क्रीन लगाया गया है जिसके माध्यम से राज्यसभा चैम्बर में बैठे लोकसभा के सदस्य भी नजर आ रहे थे। गौरतलब है कि कोरोना वायरस महामारी के बीच सामाजिक दूरी सुनिश्चित करने के लिए सदस्यों के लोकसभा चैम्बर, गैलरी के साथ राज्यसभा में भी बैठाया गया है। मानसून सत्र के पहले दिन लोकसभा की कार्यवाही परंपरा के मुताबिक राष्ट्रगान के साथ आरंभ हुई। सदन में प्रधानमंत्री मोदी के पहुंचने पर सत्तापक्ष के सदस्यों ने तालियां बजाकर उनका अभिवादन किया और ‘भारत माता की जयÓ के नारे भी लगाए।

जनत दल यू के नेता राजीव रंजन सिंह के बगल में एक बड़े मंत्री महोदय आकर बैठक बैठ गये। मंत्री आगे की सीटों पर बैठने में दूरी का पालन करते हुए कम ही नजर आये। सदस्यों के बीच निश्चित दूरी रही लेकिन कई सदस्य बाद तक अपनी सीटों को खोजते नजर आये। आल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के असदुद्दीन औवेसी तो कई सीटों पर बैठे लेकिन उन्हें बार-बार उठाया गया। इसी तरह से बसपा के रीतेश पांडे ने अपने लिए निर्धारित सीट से एक सदस्य को उठने के लिए कहा। लोकसभा की दर्शक दीर्घा में कई सदस्यों के लिए बैठने की व्यवस्था की गयी थी। दर्शक दीर्घा में सदन की कार्यवाही देखने के लिए बनी वीआईपी दीर्घा, विदेशी मेहमानों के लिए बनी दीर्घा तथा अन्य में भी सदस्यों के बैठने की जगह थी। कुछ सदस्यों को राज्यसभा में बिठाया गया था। प्रेस दीर्घा में सिर्फ पत्रकारों के लिए ही बैठने की जगह थी लेकिन दो पत्रकारों के बीच चार से पांच सीटों का अंतर रखा गया।


Share