प्रधानमंत्री मोदी ने अपने आवास पर सिख प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की, बोले-  विदेश में रहने वाले सिख राष्ट्रदूत

Prime Minister Modi met the Sikh delegation at his residence, said - Sikh Ambassador living abroad
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। प्र.म. मोदी शुक्रवार शाम सिख प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की। यह मुलाकात प्र.म. आवास पर हुई। इस दौरान प्र.म. मोदी लाल पगड़ी पहने नजर आए। संबोधन के दौरान मंच पर केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी भी नजर आएं। पीएम ने कहा- गुरुद्वारों में जाना, सेवा में समय देना, लंगर पाना, सिख परिवारों के घरों पर रहना, ये सब मेरे जीवन का एक बहुत बड़ा स्वाभाविक हिस्सा रहा है।

सिख प्रतिनिधिमंडल को संबोधित करते हुए प्र.म. मोदी ने कहा- भारत का डायस्पोरा भारत का राष्ट्रदूत हैं। भारत से बाहर आप भारत की आवाज हैं। आपकी प्रगति देखकर हमारा सिर भी गर्व से ऊंचा होता है। आप भारत की छवि को बेहतर करने में अहम भूमिका निभाते हैं।

इंडिया फस्र्ट हमारी पहली प्राथमिकता

हम दुनिया में कहीं भी रहें भारत हमारी पहली प्राथमिकता होनी चाहिए। हमारे गुरुओं ने भी यही सिखाया है। हमारे गुरुओं ने पूरे देश की यात्रा की। हमारे गुरुओं ने लोगों को प्रेरणा दी। इस धरती को पवित्र किया। आजादी के अमृत काल में आज यही देश का भी संकल्प है। हमें आत्मनिर्भर बनना है और गरीब से गरीब व्यक्ति का जीवन बेहतर करना है।

सिख समाज का देश के लिए बहुत बड़ा योगदान

पीएम ने सिखों के योगदान को याद करते हुए कहा कि आजादी की लड़ाई में और आजादी के बाद भी सिख समाज का देश के लिए जो योगदान है, उसके लिए पूरा भारत कृतज्ञता अनुभव करता है। महाराजा रणजीत सिंह का योगदान हो, अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई हो या जलियांवाला बाग हो। इनके बिना न भारत का इतिहास पूरा होता है और न हिंदुस्तान पूरा होता है। सिख परंपरा एक भारत और श्रेष्ठ भारत का सबसे अच्छा उदाहरण है।

भारत का पिछड़ा होना एक पुरानी सोच, कोरोना से लड़ाई में भारत बना उदाहरण

प्र.म. मोदी ने कोरोना से लड़ाई में भारत की भूमिका पर भी टिप्पणी की। उन्होनें कहा- महामारी की शुरुआत में पुरानी सोच वाले लोग भारत को लेकर चिंताएं जाहिर कर रहे थे। लेकिन अब भारत का उदाहरण दे रहे हैं। पहले कहा जा रहा था कि भारत को कहां से वैक्सीन मिलेगी, कैसे लोगों का जीवन बचेगा? लेकिन आज भारत वैक्सीन का सबसे बड़ा सुरक्षा कवच तैयार करने वाला देश बनकर उभरा है।


Share