राष्ट्रपति कोविंद की चीन को चेतावनी – अशांति पैदा करने की कोशिश की तो माकूल जवाब मिलेगा

राष्ट्रपति कोविंद की चीन को चेतावनी
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। 74वें स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देशवासियों को संबोधित किया। उन्होंने देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की बधाई और शुभकामनाएं दीं। राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में राष्ट्रपति ने विस्तारवादी चीन को दो टूक संदेश दिया कि भारत शांति में यकीन करता है लेकिन अगर किसी ने कोई हिमाकत की तो उसे माकूल जवाब दिया जाएगा। राष्ट्रपति कोविंद ने गलवान घाटी के बलिदानियों को नमन करते हुए कहा कि जब पूरी दुनिया को एकजुट होकर कोरोना महामारी का मुकाबला करने की जरूरत थी, तब हमारे पड़ोसी ने चालाकी से अपनी विस्तारवादी गतिविधियों को अंजाम देने का दुस्साहस किया।

राष्ट्रपति ने देश के नाम अपने संबोधन में पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ तनातनी, कोरोना संकट, देश के तमाम हिस्सों में बाढ़ या तूफान जैसी प्राकृतिक विभिषिकाओं समेत तमाम मुद्दों का जिक्र किया।

अयोध्या में भूमिपूजन गौरव की अनुभूति

राष्ट्रपति कोविंद ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर हुए भूमिपूजन पर कहा कि केवल दस दिन पहले अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण का शुभारंभ हुआ है और देशवासियों को गौरव की अनुभूति हुई है।देशवासियों ने लंबे समय तक धैर्य और संयम का परिचय दिया और देश की न्याय व्यवस्था में सदैव आस्था बनाए रखी।श्रीराम जन्मभूमि से संबंधित न्यायिक प्रकरण को भी समुचित न्याय-प्रक्रिया के अंतर्गत सुलझाया गया।सभी पक्षों और देशवासियों ने उच्चतम न्यायालय के निर्णय को पूरे सम्मान के साथ स्वीकार किया और शांति, अहिंसा, प्रेम एवं सौहार्द के अपने जीवन मूल्यों को विश्व के समक्ष पुन: प्रस्तुत किया।इसके लिए मैं सभी देशवासियों को बधाई देता हूं।


Share