राष्ट्रपति ने दिया 5 लाख का पहला चंदा

राष्ट्रपति ने दिया 5 लाख का पहला चंदा
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। राम जन्मभूमि मंदिर न्यास को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की तरफ से मंदिर निर्माण के लिए पहला दान मिला। विश्व हिंदू परिषद के आलोक कुमार ने बताया, हम लोग इस अभियान की शुरूआत के लिए उनके पास गए। उन्होंने इसके लिए 5,01,000 रूपए का दान दिया और इस मिशन की सफलता के लिए शुभकामनाएं दीं। इसके अलावा मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए 1 लाख रूपए का चेक वीएचपी को सौंपा है। राम मंदिर निर्माण के लिए अहमदाबाद के हीरा कारोबारी गोविंदभाई ढोढाकिया ने 11 करोड़ रूपये का चंदा दिया है। ढोढाकिया लंबे समय से आरएसएस से जुड़े हुए हैं।

वीएचपी राम मंदिर निर्माण आंदोलन में सबसे आगे था। ट्रस्ट ने मंदिर के निर्माण के लिए धन एकत्र करने का निर्णय लिया है। वीएचपी के एक अधिकारी ने कहा, राष्ट्रपति कोविंद के साथ बैठक वीएचपी के धन संग्रह अभियान का हिस्सा था। वहीं, अलोक कुमार ने पहले बताया कि पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए, चेक के माध्यम से 20,000 से ऊपर के फंड एकत्र किए जाएंगे। संग्रह अभियान 52,50,00 गांवों में चलाया जाएगा। एकत्र किए गए धनराशि को बैंकों में 48 घंटे के भीतर जमा करना होगा। अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए समर्पण निधि अभियान को राम शिला पूजन अभियान की तरह चलाया जाएगा। एक माह से अधिक समय तक चलने वाले इस अभियान में हर राम भक्त से सम्पर्क किया जाएगा। राम मंदिर निर्माण में सहयोग करने वाले हर व्यक्ति का स्वागत किया जाएगा।

दो चरणों में चलाया जाएगा अभियान : निधि समर्पण अभियान को व्यापक और प्रभावी ढंग से संचालित करने के लिए अभियान को दो भागों में विभाजित किया गया है। 15 से 31 जनवरी तक उन लोगों से सम्पर्क किया जाएगा जो मंदिर निर्माण में दो हजार अथवा उससे अधिक राशि का समर्पण करेंगे। यह राशि जमा करने पर उन्हें रसीद दी जाएगी। पहली फरवरी से 27 फरवरी तक दस-दस कार्यकर्ताओं की टोलियां कूपनों के माध्यम से निधि एकत्र करेंगी।


Share