लखीमपुर खीरी हिंसा में कार की चपेट में आए 4 किसानों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई सामने

लखीमपुर खीरी हिंसा में कार की चपेट में आए 4 किसानों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई सामने
Share

लखीमपुर खीरी हिंसा में कार की चपेट में आए 4 किसानों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई सामने – उत्तरप्रदेश के लखीमपुर जिले में रविवार को मची भगदड़ में एक स्थानीय पत्रकार समेत कुल आठ लोगों की मौत हो गई। मृतकों में 4 किसान, 2 भाजपा कार्यकर्ता,अजय मिश्रा का ड्राइवर और एक स्थानीय पत्रकार शामिल हैं। इस हिंसा में मारे गए 8 लोगों की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट सामने आई है। रिपोर्ट के मुताबिक, ज्यादातर मौतें पिटाई, झटके या खून बहने के कारण हुईं, पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में किसी को गोली मारे जाने का जिक्र नहीं है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पता चला है कि किसान की मौत वाहन के नीचे कुचलने से हुई है।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार मौत का कारण क्या था?

4 किसानों की मौत की हुई मौत

  1. लवप्रीत सिंह (किसान)

मौत का कारण – सड़क पर चलने से मौत, शरीर पर चोट के निशान, सदमे और खून बहने से मौत

  1. गुरविंदर सिंह (किसान)

मौत का कारण- दो घाव और खरोंच के निशान मिले हैं।  किसी धारदार हथियार या धारदार वस्तु से लगी चोट।  सदमे और खून बहने से मौत

3.दलजीत सिंह (किसान)

मौत का कारण- शरीर के नीचे कई जगह घसीटे जाने के निशान, वाहन के नीचे गिरने से चोट लगने की आशंका

4.छत्रसिंह (किसान)

मौत का कारण- गंभीर सदमा, खून बह रहा था और मौत से पहले कोमा में चला गया था। अंगों पर खरोंच के निशान भी थे।

हिंसा में 4 अन्य मारे गए:

  1. शुभम मिश्रा (भाजपा नेता)

मौत का कारण – लाठियों से पीटना। शरीर पर एक दर्जन से ज्यादा जगह चोट के निशान मिले हैं।

  1. हरिओम मिश्रा (अजय मिश्रा का ड्राइवर)

मौत का कारण – लाठियों से पीटना। शरीर पर कई जगह चोट के निशान हैं।  मौत से पहले सदमे और खून बह रहा है।

  1. श्याम सुंदर (भाजपा कार्यकर्ता)

मौत का कारण – लाठियों से पीटना। हादसे में एक दर्जन से अधिक घायल

  1. रमन कश्यप (स्थानीय पत्रकार)

मौत का कारण- शरीर पर मारपीट के गंभीर निशान।  सदमे और खून बहने से मौत।

वाहन की चपेट में आने से किसानों की मौत

पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चला है कि किसान की मौत वाहन के नीचे कुचलने से हुई है। खींच से किसान के शरीर पर गहरे जख्म के निशान हैं। वहीं, भाजपा कार्यकर्ताओं, चालकों और पत्रकारों के शवों पर चोट के निशान मिले हैं। सोमवार को प्रशासन और किसानों के बीच समझौता हो गया। हिंसा में मारे गए चार किसानों के परिवारों को 45 लाख रुपये का भुगतान करने और परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने का निर्णय लिया गया। साथ ही हिंसा में घायल हुए लोगों को 10 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाएगा। साथ ही हाईकोर्ट के सेवानिवृत्त जज पूरे मामले की जांच करेंगे।

उपमुख्यमंत्री के कार्यक्रम से पहले भड़की हिंसा

रविवार को उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार लखीमपुर खीरी के दौरे पर थे। केंद्रीय मंत्री के बेटे आशीष मिश्रा पर किसानों को कुचलने का आरोप लगा था। किसान के वाहन की चपेट में आने से हड़कंप मच गया। वाहन के कुचलने से चार किसानों की मौत हो गई और बदले में चालक और दो भाजपा कार्यकर्ताओं को किसानों की भीड़ ने पीटा।  इस संबंध में आशीष मिश्रा के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया है।


Share