डीआरडीओ के ऑक्सीकेयर सिस्टम को पीएम केयर फंड ने किया मंजूर

कोरोना की दूसरी लहर : 3007 पॉजिटिव मिल
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)।  एंटी कोविड ड्रग के बाद अब डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन मरीजों की ऑक्सीजन की समस्या को भी सुलझाने तैयार है। खबर है कि पीएम केयर फंड ने डीआरडीओ की तरफ से तैयार किए गए ऑक्सीकेयर सिस्टम को मंजूरी दे दी है। जल्द ही इसकी सप्लाई प्रक्रिया शुरू हो सकती है। बुधवार को डीआरडीओ ने इस बात की जानकारी दी है। खास बात है कि संस्था के कोविड ड्रग 2 डी ओक्सी-डी-ग्लुकोज (2-डीजी) को हाल ही में ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया से आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी मिली है।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, पीएम केयर्स फंड ने डीआरडीओ के विकसित किए ऑक्सीकेयर सिस्टम के 1 लाख 50 हजार यूनिट्स के खरीद की मंजूरी दे दी है। इसकी कीमत 322.5 करोड़ रूपये बताई जा रही है। एजेंसी के अनुसार, यह एक एसपीओ2 आधारित ऑक्सीजन सप्लाई सिस्टम है, जो ऑक्सीजन को नियंत्रित करता है, जो महसूस किए एसपीओ2 स्तर के आधार पर मरीज तक ऑक्सीजन पहुंचाता है।

इस डील में एनआरबीएम मास्क के साथ 1 लाख मैन्युअल और 50 हजार ऑटोमैटिक ऑक्सीकेयर सिस्टम खरीदे जा रहे हैं। डीआरडीओ की तरफ से जारी बयान में बताया गया है कि ऑक्सीकेयर सिस्टम एसपीओ2 स्तर के आधार पर सप्लीमेंटल ऑक्सीजन पहुंचाता है और मरीज को हाइपॉक्सिया से बचाता है। डीआरडीओ ने जानकारी दी है कि इस सिस्टम को बेंगलुरू स्थित डिफेंस बायो-इंजीनियरिंग एंड इलेक्ट्रो मेडिकल लैबोरेट्री (डीईबीईएल) ने ऊंचाई पर तैनात सैनिकों के लिए तैयार किया था। बताया गया है कि यह सिस्टम फील्ड पर ऑपरेशन्स को पूरा करने के लिए तैयार की गई है और मजबूत है।

ऑक्सीकेयर सिस्टम की खरीद का फैसला ऐसे समय में किया गया है, जब देश के कई बड़े शहरों में ऑक्सीजन की किल्लत की खबरें आ रही हैं। बताया जा रहा है कि सिस्टम खरीदने का यह फैसला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई एक हाई-लेवल मीटिंग में लिया गया है। इस दौरान प्र.म. मोदी ने अधिकारियों को आदेश दिया है कि ज्यादा मामलों वाले राज्यों में इन ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर्स को जल्द से जल्द पहुंचाया जाए।


Share