भाजपा को प्र.म. मोदी का संदेश – ‘हमें चैन से बैठने का हक नहीं’

PM to BJP Modi's message - 'We do not have the right to sit in peace'
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। जयपुर में चल रही भाजपा की राष्ट्रीय पदाधिकारियों की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस का नाम लिए बिना परिवारवाद की राजनीति को ही प्रमुखता देने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि ये परिवारवादी पार्टियां आज भी देश को पीछे ले जाना चाहती हैं। उनका सार्वजनिक जीवन परिवार से शुरू होता है और सिर्फ परिवार के लिए ही होता है। बैठक को वर्चुअली संबोधित करते हुए मोदी करीब 43 मिनट बोले।

‘ऐसे लोगों को जोड़ें, जिनका परिवार राजनीति में नहीं’

प्रधानमंत्री ने कहा कि हमें ऐसे लोगों को भाजपा में मौका देना है, उन्हें पार्टी से जोडऩा है, जिसका राजनीति से कोई लेना-देना नहीं है। हमें याद रखना है कि परिवारवाद की राजनीति से धोखा खाने वाले लोगों का भरोसा भाजपा ही लौटा सकती है। परिवार-वंशवाद की राजनीति ने देश में भ्रष्टाचार को बढ़ावा दिया है। लोकतंत्र बचाने के लिए परिवारवाद की राजनीति के खिलाफ संघर्ष करना होगा।

‘वंशवादियों ने गांधी के विजन के विपरीत काम किया’

उन्होंने कहा कि वंशवाद के राजनीतिक कीचड़ में भी हमने कमल को खिलाया है। आजादी के बाद से परिवारवाद-वंशवाद की राजनीति ने देश का भयंकर नुकसान किया है। महात्मा गांधी का देश में सिर्फ नाम लिया गया, काम उनके विजन से उल्टे किए गए। वे देश में स्वावलंबन चाहते थे, लेकिन सालों तक देश को विदेशों पर निर्भर बना दिया गया, लेकिन आज देश आत्मनिर्भरता के रास्ते पर चल पड़ा है। ये काम भाजपा ने ही किया है।

‘विकासवाद की राजनीति की स्थापना होनी चाहिए’

मोदी ने कहा कि देश में विकासवाद की राजनीति की स्थापना होनी चाहिए। कोई भी दल हो, उसको भी विकासवाद की राजनीति पर आने के लिए मजबूर करना है। हम बड़े गर्व से कहते हैं कि यह भाजपा है, जिसने विकासवाद की राजनीति को देश की राजनीति की मुख्यधारा में लेकर आई है। कोई भी चुनाव हो, विकास पर विश्वास करने वाले लोग हों या समाज को तोडऩे की राजनीति करने वाले हों, चुनाव में हर किसी को विकास की बात करनी पड़ती है। कुछ लोगों ने विकास को भी विकृत रूप दे दिया है, ऐसे लोग समाज में तनाव को ढूंढकर जातिवाद, क्षेत्रवाद और अन्य मामले उठाकर अपना स्वार्थ सिद्ध करते हैं। ये लोग समाज की कमजोरियों के साथ खेल रहे हैं।

‘जनता भाजपा की तरफ विश्वास से देख रही है’

मोदी ने कहा, दुनिया आज भारत को बहुत उम्मीदों से देखती है। ऐसे ही देश की जनता भाजपा को बहुत उम्मीद और विश्वास से देख रही है। देश की जनता का आकांक्षा हमारा दायित्व बढ़ा देती है। देश अपने लिए अगले 25 साल के लक्ष्य तय कर रहा है, भाजपा भी आने वाले सालों का लक्ष्य तय करे। देश के लोगों की उम्मीदें पूरी करनी हैं। देश के सामने चुनौतियों को लोगों के साथ मिलकर परास्त करना है।

‘भाजपा ने देश को निराशा से बाहर निकाला’

मोदी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि पिछली सरकार की कोई जवाबदेही नहीं बची थी और लोगों को भी सरकार से उम्मीद नहीं थी। 2014 के बाद भाजपा देश को निराशा से बाहर निकालकर लाई है। देश का नागरिक अपनी आंखों के सामने परिणाम प्राप्त करना और परिणाम देखना चाहता है। राजनीतिक नफा-नुकसान से अलग इसे बहुत बड़ा सकारात्मक परिवर्तन मानता हूं। जब लोगों की उम्मीद बढ़ती है तो सरकार को काम करना अनिवार्य होता है।

‘भाजपा कार्यकर्ता को चैन से बैठने का हक नहीं’

प्रधानमंत्री ने कहा कि भाजपा का कार्यकर्ता होने के नाते हमें चैन से बैठने का कोई अधिकार नहीं है। दुनिया कहेगी कि 18 राज्यों में भाजपा की सरकार है, 1300 से ज्यादा विधायक, 400 से ज्यादा सांसद हैं। इन सफलताओं को देखते हुए मन करेगा कि बहुत हो गया, लेकिन हमें सत्ता भोग ही करना होता तो कोई भी आराम करने की सोच सकता है। यह रास्ता हमें मंजूर नहीं है। विजय पताका फहराने के बाद भी हम बैचेन हैं, अधीर हैं, आतुर हैं, क्योंकि हमारा लक्ष्य भारत को ऊंचाई पर पहुंचाना है जिसका सपना देश की आजादी के लिए मर मिटने वालों ने देखा था।

‘विकास की राजनीति से न भटकें’

मोदी ने कार्यकर्ताओं से कहा कि आपको विकास की राजनीति से भटकाने के कई प्रयास होंगे। ऐसे कई दल हैं जो देश को इस मुद्दे से भटकाने का प्रयास कर रहे हैं। जब आप अच्छे काम करेंगे तो कोई पब्लिसिटी नहीं मिलेगी, लेकिन आपको इससे परेशान नहीं होना है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 10 बजकर 20 मिनट पर अपना भाषण शुरू किया और 11 बजकर 03 मिनट पर खत्म किया।

शेखावत को किया याद, कहा- मैं अंगुली पकड़कर चला

प्र.म. मोदी ने कहा कि राजस्थान में यह बैठक हो रही है और इस बीच सुंदर सिंह भंडारी की याद आना स्वाभाविक है। मुझे ऐसे कई लोगों की अंगुली पकड़कर चलने का मौका मिला, जो राजस्थान के थे और उन्होंने अपना जीवन पार्टी को खड़ा करने के लिए न्यौछावर कर दिया। ऐसे ही एक व्यक्तित्व भैरों सिंह शेखावत थे। प्र.म. मोदी ने कहा कि कमल पुष्प की रचना हुई है, उसमें उन लोगों की प्रेरक गाथाएं हैं, जिन्होंने अपना जीवन न्यौछावर किया। भारत के लिए 21वीं सदी का यह समय भारत के लिए बेहद अहम है। मैंने लाल किले से भी कहा था कि यही समय है और सही समय है। दुनिया में भारत के प्रति उम्मीद की भावना जागृत हुई। इसी तरह भारत में भाजपा के प्रति जनता का एक विशेष अनुभव रहा है।


Share