प्रमं मोदी का करारा पलटवार, कहा- ‘कांग्रेस की नीति फूट डालो राज करो’, बन गई टुकड़े-टुकड़े गैंग की लीडर’

PM Modi's befitting reply, said- 'Congress' policy, divide and rule', has become the leader of the 'tukde-tukde gang'
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण के धन्यवाद प्रस्ताव पर हुई बहस का जवाब दिया। उन्होंने कांग्रेस को अहंकारी बताते हुए कहा कि जब पूरी दुनिया महामारी से जूझ रही थी तब विपक्षी पार्टी की ओर से इस संकट के समय का इस्तेमाल दलगत राजनीति के लिए किया गया। कोरोना संकट के वक्त जब देश लाकडाउन का पालन कर रहा था और विश्व स्वास्थ्य संगठन यह सलाह दे रहा था कि जो जहां हैं वहीं रूके तब कांग्रेस के लोगों ने सारी हदें पार करते हुए रेलवे स्टेशनों पर लोगों को घर वापसी के लिए उकसाने का काम किया।

पूरी एकजुटता और ताकत के साथ खड़ा है राष्ट्र

राहुल के बयान पर पलटवार करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि आज राष्ट्र पूरी एकजुटता और ताकत के साथ खड़ा है। जब हमारे सीडीएस जनरल बिपिन रावत का हेलिकाप्टर हादसे में अकस्मात निधन हुआ और जब उनका पार्थिव शरीर तमिलनाडु में हवाई अड्डे पर ले जाने के लिए रास्ते से गुजर रहा था तो मेरे तमिल भाई और बहनें लाखों की संख्या में घंटो तक कतार में सड़क पर खड़े थे। हर तमिलवासी गौरव के साथ हाथ ऊपर करके आंख में आंसू लिए कहता देखा गया- वीर वनकम, वीर वनकम।

कांग्रेस के डीएनए में विभाजनकारी मानसिकता

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- आज विभाजनकारी मानसिकता कांग्रेस के डीएनए में घुस गई है। कांग्रेस की नीति ‘फूट डालो राज करो’ है। अंग्रेज चले गए लेकिन बांटो और राज करो की नीति को कांग्रेस ने अपना चरित्र बना लिया है। इसलिए ही आज कांग्रेस टुकड़े टुकड़े गैंग की लीडर बन गई है। कांग्रेस पार्टी का सत्ता में आने की इच्छा खत्म हो चुकी है। उसे लगता है कि जब कुछ मिलने वाला नहीं है तो कम से कम बिगाड़ तो दो। कांग्रेस आज इसी दर्शन पर चल रही है।

इसलिए हुई आपकी दुर्दशा

प्र.म. मोदी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा- इस देश का गरीब इतना विश्वासघाती नहीं है कि कोई सरकार उसकी भलाई के काम करे और वो फिर उसको ही सत्ता से बाहर करे। आपकी ये दुर्दशा इसलिए आई क्योंकि आपने मान लिया था कि नारे देकर गरीबों को अपने चंगुल में फंसाएं रखोगे लेकिन गरीब जाग गया, वो आपको पहचान गया।

दिलाई नेहरू की याद

प्र.म. मोदी ने कहा कि कांग्रेस ने अपने ‘गरीबी हटाओÓ नारे के कारण कई चुनाव जीते लेकिन ऐसा करने में असफल रहे। फिर देश के गरीबों ने उनको वोट दिया। महंगाई पर देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने लाल किले से कहा था- कभी-कभी कोरिया में लड़ाई भी हमें प्रभावित कर देती है। यही नहीं अमेरिका में भी किसी तरह की अशांति की वजह से महंगाई भी होती है।

चिदंबरम पर भी हमला

प्र.म. मोदी ने पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम पर भी हमला बोला। उन्होंने कहा कि पी चिदंबरम इन दिनों अखबारों में अर्थव्यवस्था पर लेख लिख रहे हैं। 2012 में उन्होंने कहा था – जनता परेशान नहीं है जब उन्हें पानी की बोतल पर 15 व आइसक्रीम पर 20 रूपए खर्च करने पड़ते हैं लेकिन जब गेहूं और चावल की कीमत में 1 रूपए की बढ़ोतरी हुई तो जनता बर्दाश्त नहीं कर सकती है। 2011 में तत्कालीन वित्तमंत्री जी ने लोगों से बेशर्मी के साथ कह दिया था कि महंगाई कम करने के लिए किसी अलादीन के जादू की उम्मीद न करें।

रक्षा क्षेत्र को देखें तो खुल जाती है आपकी पोल

प्रधानमंत्री ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा- जिन्होंने 50 वर्षों तक देश की सरकारें चलाई, मेक इन इंडिया को लेकर उनका क्या रवैया था। इसके लिए सिर्फ डिफेंस सेक्टर को हम देखें तो सारी बातें समझ आती हैं कि वो क्या करते थे, कैसे करते थे, क्यों करते थे और किसके लिए करते थे।

कुछ लोगों को ‘मेक इन इंडिया’ से दिक्कत

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कुछ लोगों को ‘मेक इन इंडिया’ से दिक्कत है क्योंकि उनके लिए इसका मतलब है कि भ्रष्टाचार नहीं होगा। वे पैसा नहीं जुटा पाएंगे। हमनें रक्षा के विभाग से जुड़े सभी लंबित मुद्दों को हल करने का प्रयास किया है। कुछ लोग मानते हैं कि केवल सरकारें ही सभी समस्याओं का समाधान नहीं कर सकती हैं। साल 2014 से पहले हमारे देश में सिर्फ 500 स्टार्ट-अप थे लेकिन पिछले सात वर्षों में देश में 60 हजार से अधिक स्टार्ट-अप काम कर रहे हैं। यह हमारे युवाओं की ताकत को दर्शाता हैं।

कुछ लोग बदल नहीं पाए गुलामी की मानसिकता

प्रधानमंत्री ने कहा कि सैकड़ों वर्षों का गुलामी कालखंड, उसकी जो मानसिकता है, वो आजादी के 75 साल के बाद भी कुछ लोग बदल नहीं पाए हैं। यह गुलामी की मानसिकता किसी भी राष्ट्र की प्रगति के लिए बहुत बड़ा संकट होती है। हमनें गरीब श्रमिकों के लिए दो लाख करोड़ रूपये से ज्यादा खर्च किए हैं। आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के तहत हजारों लाभार्थियों के खातों में हमने सीधे पैसे ट्रांसफर किए।

आपके ‘अहंकार’ में कोई बदलाव नहीं आया

लोकसभा में प्रधानमंत्री मोदी ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि इतने चुनाव हारने के बाद आपके (कांग्रेस) ‘अहंकार’ में कोई बदलाव नहीं आया है। कोरोना के संकट काल में कांग्रेस पार्टी ने सारी हदें पार कर दी। पहली लहर के दौरान, जब लोग लॉकडाउन का पालन कर रहे थे, दिशानिर्देश सुझाव दे रहे थे कि लोग जहां हैं वहीं रहें, तब कांग्रेस मुंबई स्टेशन पर खड़ी थी और निर्दोष लोगों को डरा रही थी।

आपने हमें क्या क्या नहीं कहा…

प्रधानमंत्री ने कहा- सदन बात का साक्षी है कि कोरोना से जो स्थितियां उत्पन्न हुई, उससे निपटने के लिए भारत ने जो भी रणनीति बनाई उसको लेकर पहले दिन से क्या-क्या नहीं कहा गया है। दुनिया के और लोगों से बड़ी-बड़ी कांफ्रेंस करके ऐसी बातें बुलवाई गई ताकि पूरे विश्व में भारत बदनाम हो। आपने सरकार पर हमला करने के लिए अपनी पूरी टीम उतार दी थी।

कुछ लोगों को युवाओं को डराने में आनंद आता है

प्र.म. मोदी ने कहा- कुछ लोगों को देश के नौजवानों को, देश के उद्योगपतियों को, देश के वेल्थ क्रिएटर्स को डराने और भयभीत करने में आनंद आता है लेकिन देश का नौजवान उनकी बातें सुन नहीं रहा है इसीलिए देश आगे बढ़ रहा है।

विपक्ष मजाक उड़ाने में व्यस्त

प्र.म. मोदी ने कहा- अगर हम लोकल के लिए वोकल होने की बात कर रहे हैं तो क्या हम महात्मा गांधी के सपनों को पूरा नहीं कर रहे हैं? फिर विपक्ष द्वारा इसका मजाक क्यों उड़ाया जा रहा था? हमने योग और फिट इंडिया की बात की, लेकिन विपक्ष ने भी इसका मजाक उड़ाया।

अंधविरोध लोकतंत्र का अनादर

प्र.म. मोदी ने कहा- हम सब संस्कार से, व्यवहार से लोकतंत्र के लिए प्रतिबद्ध लोग हैं और आज से नहीं, सदियों से हैं। ये भी सही है कि आलोचना जीवंत लोकतंत्र का आभूषण है लेकिन अंधविरोध लोकतंत्र का अनादर है।

आप कहां से कहां पहुंच गए : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा- गोवा में 1994 में पूर्ण बहुमत के साथ आप जीते थे, 28 साल से गोवा ने आपको स्वीकार नहीं किया। आप कहां से कहां पहुंच गए। ऐसा लगता है कि आपने मन बना लिया है कि 100 साल तक सत्ता में नहीं आना है। अब जब आपने तय कर ही लिया है तो मैंने भी तय कर लिया है…

अधीर रंजन पर कसा तंज : लोकसभा में एक ऐसा मौका आया जब कांग्रेस के संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी ने टोकाटाकी और खड़े हो गए। अधीर रंजन चौधरी के खड़े होते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी सीट पर बैठ गए। अधीर रंजन चौधरी ने जब व्यवधान पैदा करना जारी रखा तब प्रधानमंत्री ने उन पर करारा तंज कसा। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- दादा (अधीर रंजन) को अनुमति मिलनी चाहिए क्योंकि वह उम्र के इस पड़ाव पर भी बचपन का आनंद लेते हैं।

सबसे पहले स्वर कोकिला को श्रद्धांजलि : प्र.म. मोदी ने सबसे पहले अपने संबोधन में स्वर कोकिला लता मंगेशकर को श्रद्धांजलि अर्पित की। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- देश ने आदरणीय लता दीदी को खो दिया है। इतने लंबे काल तक जिनकी आवाज ने देश को मोहित किया, देश को प्रेरित भी किया, देश को भावनाओं से भर दिया। मैं आज आदरणीय लता जी को आदरपूर्वक श्रद्धांजलि देता हूं।


Share