थॉमस कप विजेता टीम से मिले प्र.म. मोदी, ‘आपने देश का बड़ा सपना पूरा किया’

थॉमस कप विजेता टीम से मिले प्र.म. मोदी, 'आपने देश का बड़ा सपना पूरा किया’
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने आवास ‘7 लोक कल्याण मार्ग’ पर थॉमस कप और उबर कप के बैडमिंटन चैंपियंस से मुलाकात की। इस दौरान खिलाडिय़ों ने प्र.म. के साथ अपने अनुभव साझा किए। थॉमस कप जीतने वाले भारतीय बैडमिंटन खिलाडिय़ों से प्र.म. नरेंद्र मोदी ने कहा, मैं देश की ओर से पूरी टीम को बधाई देता हूं। यह कोई छोटी उपलब्धि नहीं है। प्र.म. कहा कि किसी भी टूर्नामेंट में कोई भी निर्णायक मैच सांस खींच लेने वाला होता है। इस पर खिलाडिय़ों ने कहा कि मैच चाहे पहला हो या अंतिम हमने हमेशा देश की जीत दिखी।

मोदी ने कहा, एक समय था जब हमारी टीम थॉमस खिताब जीतने की लिस्ट में काफी पीछे हुआ करती थी। भारतीयों ने कभी इस खिताब का नाम भी नहीं सुना होगा, लेकिन आज आपने इसे देश में लोकप्रिय कर दिया है। इस भारतीय टीम ने यह जज्बा जगाया है कि मेहनत की जाए, तो कुछ भी हासिल किया जा सकता है। दबाव होना ठीक है, लेकिन उसमें गलत है। आपने दबाव से निकलकर इतिहास रचा है। मुलाकात के दौरान प्र.म. मोदी ने किदांबी श्रीकांत,सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी, चिराग शेट्टी, लक्ष्य सेन और एचएस प्रणॉय से बात की, उनका हौंसला अफजाई  किया और उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी।

लक्ष्य सेन ने प्र.मं. मोदी को मिठाई खिलाई

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज लक्ष्य सेन ने अपना वादा पूरा किया है। उन्होंने फोन पर कहा था कि मिठाई खिलाऊंगा। आज वह मेरे लिए मिठाई लेकर आए हैं। लक्ष्य ने बताया कि टूर्नामेंट के दौरान उनको फूड पॉइजनिंग हो गई थी। इस वजह से वह 3 मैच नहीं खेल पाए थे। लक्ष्य सेन ने कहा कि प्र.म. ने अल्मोड़ा की बाल मिठाई मांगी थी। मैं उनके लिए मिठाई लेकर गया था। यह दिल को छू लेने वाला है कि उन्हें खिलाडिय़ों की छोटी-छोटी बातें याद रहती हैं।

भारत ने पहली बार जीता थॉमस कप

बता दें कि भारत ने कुछ दिन पहले ही थॉमस कप के फाइनल मुकाबले में 14 बार की चैंपियन इंडोनेशिया को हराकर पहली बार यह खिताब अपने नाम किया था। भारतीय टीम पहली बार इस टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंची थी।भारत को थॉमस कप जिताने में कप्तान किदांबी श्रीकांत, चिराग-सात्विक की जोड़ी और युवा शटलर लक्ष्य सेन का रहा।  इसके अलावा एचएस प्रणॉय ने भी मुश्किल समय में चोटिल होने के बावजूद जीत हासिल की और देश को चैंपियन बनाया था। उबर कप में भारतीय टीम मेजबान थाइलैंड से क्वार्टर फाइनल में हारकर बाहर हो गई थी।

मेरे प्र.म. ने मुझे कभी नहीं बुलाया : माथियास

किदांबी श्रीकांत ने कहा कि एथलीटों को यह कहते हुए हमेशा गर्व होगा कि हमें अपने प्रधानमंत्री का समर्थन प्राप्त है। भारतीय बैडमिंटन टीम के चीफ कोच पुलेला गोपीचंद ने कहा कि प्र.म. खिलाडिय़ों और खेल का अनुसरण करते हैं और उनके विचार खिलाडिय़ों से जुड़ते हैं। भारतीय डबल्स टीम के कोच माथियास बो ने कहा, मैं एक खिलाड़ी रहा हूं और मैंने देश के लिए पदक जीते हैं। लेकिन मेरे प्रधानमंत्री ने मुझे कभी मिलने के लिए नहीं बुलाया। बता दें कि माथियास डेनमार्क के इंटरनेशनल बैडमिंटन प्लेयर रहे हैं।


Share