PM ने लॉन्च किया ई-रूपी – डायरेक्ट टू बैंक ट्रांसफर को बनाएगा ज्यादा प्रभावी

COVID-19 महामारी के बीच पीएम मोदी की लोकप्रियता बढ़ी
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को डिजिटल पेमेंट सॉल्युशन ई-रूपी लॉन्च कर दिया। प्रधानमंत्री मोदी ने इसे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए 2 अगस्त 2021 की शाम 4।30 बजे लॉन्च किया। ई-रूपी एक प्रीपेड ई-वाउचर है, जिसे नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) ने तैयार किया है। इसके जरिये कैशलेस और कॉन्टैक्टलेस पेमेंट होगा। ई-रूपी एक क्यूआर कोड या एसएमएस स्ट्रिंग-आधारित ई-वाउचर है, जिसे बेनिफिशियरी के मोबाइल पर पहुंचाया जाता है। इस वन टाइम पेमेंट मैकेनिज्म के यूजर्स सर्विस प्रोवाइडर पर कार्ड, डिजिटल पेमेंट ऐप या इंटरनेट बैंकिंग एक्सेस किए बिना वाउचर को रिडीम कर सकेंगे।

‘पर्सन और पर्पज स्पेसिफिक है ई-रूपी’

प्र.म. मोदी ने ई-रूपी लॉन्च करने के बाद कहा कि ये एक तरह से पर्सन के साथ-साथ पर्पज स्पेसिफिक भी है। ई-रूपी सुनिश्चित करेगा कि जिस मकसद से कोई मदद दी जा रही है, वो उसी के लिए प्रयोग होगा। साथ ही कहा कि ई-रूपी वाउचर देश में डिजिटल ट्रांजेक्शन को, डायरेक्ट टू बैंक ट्रांसफर याजना को प्रभावी बनाने में बहुत बड़ी भूमिका निभाने वाला है। इससे लक्षित, पारदर्शी और लीकेज फ्री डिलीवरी में सभी को बड़ी मदद मिलेगी। फिलहाल इसे स्वास्थ्य सेवाओं से ही जोड़ा जा रहा है। अभी अगर कोई व्यक्ति भुगतान कर वैक्सीनेशन कराना चाहता है तो उसे ई-रूपी के जरिये कैशलेस और कॉन्टेक्टलेस ट्रांजेक्शन की सुविधा मिलेगी। बाद में इसका इस्तेमाल दूसरी स्वास्थ्य सेवाओं के भुगतान में भी किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि देश में डिजिटल पेमेंट के कारण भ्रष्टाचार पर अंकुश लगा है। साथ ही लाभार्थियों को बिना किसी झंझट के योजनाओं का लाभ मिला है।

यूपीआई के जरिये जुलाई में हुए 300 करोड़ के लेनदेन

प्र.म. स्वनिधि योजना की चर्चा करते हुए प्र.म. मोदी ने कहा कि हमारी सरकार ने प्र.म. स्वनिधि योजना की शुरूआत की। आज देश के छोटे-बड़े शहरों में 23 लाख से ज्यादा रेहड़ी-पटरी और ठेले वालों को इस योजना के तहत मदद दी गई है।


Share