प्र.म. का झांसी दौरा : लक्ष्मीबाई के किले से एयरफोर्स को दिए लड़ाकू हेलिकॉप्टर

प्र.म. का झांसी दौरा : लक्ष्मीबाई के किले से एयरफोर्स को दिए लड़ाकू हेलिकॉप्टर
Share

झांसी। भारत सरकार ने डिफेंस सेक्टर में आत्मनिर्भरता की तरफ कदम बढ़ाना शुरू कर दिया है। इसी कड़ी में शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी झांसी पहुंचे। उन्होंने रानी लक्ष्मीबाई के किले से एयरफोर्स को लड़ाकू हेलिकॉप्टर सौंपे। उन्होंने कहा कि बुंदेलखंड डिफेंस कॉरिडोर का सारथी बनेगा। पीएम मोदी ने जो लाइट कॉम्बैट हेलिकॉप्टर एयर फोर्स को सौंपा, उसे हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड ने बनाया है।

मोदी ने डीआरडीओ के डिजाइन किए गए जहाज और भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (बीईएल) के बनाए गए इलेक्ट्रॉनिक वारफेयर सूट भी सेना के हवाले किए। उन्होंने सेना को भारतीय स्टार्टअप के बनाए गए ड्रोन और यूएवी भी दिए। इससे पहले रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने रानी लक्ष्मीबाई का चित्र भेंट कर पीएम मोदी का स्वागत किया।

पीएम नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय कैडेट कोर के पूर्व छात्र संघ का शुभारंभ किया। इस दौरान वे संघ के पहले सदस्य भी बने।

स्वदेशी लाइट कॉम्बैट हेलिकॉप्टर वायुसेना को सौंपा, 7 खासियतें

  1. स्वदेशी डिजाइन और एडवांस तकनीक
  2. किसी भी मौसम में उड़ान भरने में सक्षम
  3. आसमान से दुश्मनों में नजर रखने में मददगार
  4. हवा से हवा में हमला करने वाली मिसाइलें ले जाने में सक्षम
  5. चार 70 या 68 एमए रॉकेट ले जाने में सक्षम
  6. फॉरवर्ड इन्फ्रारेड सर्च, सीसीडी कैमरा और थर्मल विजन और लेजर रेंज फाइंडर भी
  7. नाइट ऑपरेशन करने और दुर्घटना से बचने में भी सक्षम

राजनाथ बोले- ब्रह्मोस के लिए यूपी को चुना

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि डीआरडीओ यूपी में स्टार्टअप को भी सहयोग कर रहा है। ब्रह्मोस मिसाइल को बनाने के लिए यूपी को चुना गया है। पहले 65 से 70 प्रतिशत सैन्य हथियार विदेशों से खरीदे जा रहे थे। अब 65 प्रतिशत हथियार भारत में बन रहे हैं। अब भारत 70 देशों में सैन्य हथियार निर्यात कर रहा है। यह बदलती सूरत है। विदेशी निर्भरता को खत्म किया जा रहा है।


Share