भारत में फरवरी में आ सकता तीसरी लहर का पीक, दुनिया भर में बुरा गुजरा क्रिसमस सप्ताह, 11% बढ़े कोरोना केस

Peak of third wave may come in India in February
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)।  कोरोना वायरस के केसों में दुनिया भर में तेजी से इजाफा देखने को मिला है। रविवार को समाप्त हुए सप्ताह  में पहले वाले सप्ताह के मुकाबले 11 फीसदी ज्यादा नए केस पाए गए हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बताया कि 20 से 26 दिसंबर के दौरान दुनिया भर में 49 लाख नए कोरोना केस पाए गए हैं। सबसे ज्यादा केस अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस जैसे देशों में मिले हैं। डब्लूएचओ ने कहा कि दुनिया भर में अक्टूबर के बाद से ही नए केसों में इजाफा देखने को मिल रहा है। दुनिया भर में बीते एक सप्ताह में जो नए केस मिले हैं, उनके आधे मामले अकेले यूरोप के ही देशों में पाए गए हैं। 2.84 मिलियन मामले मिले हैं। फ्रांस और ब्रिटेन में हालात लगातार बिगड़ रहे हैं। एक तरफ यूके में 1.29 लाख मामले मंगलवार को मिले तो वहीं फ्रांस में 1.80 लाख के करीब नए केस पाए गए हैं।

इसके अलावा अफ्रीका में भी नए केसों में 7 फीसदी का इजाफा हुआ है। अफ्रीकी देशों में बीते सप्ताह 275,000 नए केस पाए गए हैं कई देशों में डेल्टा वैरिएंट से ज्यादा ओमिक्रॉन के मामले बढऩे के संकेत हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने ओमिक्रॉन को लेकर कहा है कि यह गहरी चिंता का विषय है। इस बीच संयुक्त राष्ट्र अमीरात में भी 2000 नए केस पाए गए हैं। बीते 6 महीनों में पहली बार ऐसा हुआ है, जब मामले 2,000 के पार पहुंचे हैं। भारत में भी लगातार संकट बढ़ता दिख रहा है। ओमिक्रॉन के मामले तेजी से बढ़ते हुए 800 के पार पहुंच गए हैं। राजस्थान में बुधवार को एक साथ 23 नए केस ओमिक्रॉन वैरिएंट के मिले हैं।

भारत में फरवरी में आ सकता तीसरी लहर का पीक

यही नहीं कोरोना के कुल केस भी बुधवार को 9000 से ज्यादा सामने आए हैं। इसके चलते एक्टिव केसों की संख्या बढ़ते हुए 77 हजार के पार पहुंच गई है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि भारत में यह तीसरी लहर का संकेत हो सकता है, जिसका फरवरी में पीक देखने को मिल सकता है। नए केसों में इजाफे को देखते हुए ही दिल्ली से लेकर महाराष्ट्र और गोवा तक में कई प्रतिबंध लगाए गए हैं। दिल्ली सरकार ने स्कूल, कॉलेज, जिम समेत कई चीजों को बंद कर दिया है। वहीं बसों और मेट्रो में कुल क्षमता के 50 फीसदी के बराबर ही लोग यात्रा कर सकेंगे।

नारायण हेल्थ के चेयरमैन और कार्डियक सर्जन देवी शेट्टी ने कहा है कि ओमीक्रोन भले ही उतना घातक नहीं हो मगर अब तक का अनुभव बताता है कि यह हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर की कमर तोड़ सकता है। कोरोना वायरस इतिहास में सबसे तेजी से फैल रहा वायरस है। इंग्लैंड, फ्रांस, अमेरिका, नीदरलैंड्स, डेनमार्क में हालात बेकाबू दिख रहे हैं।

कोरोना बढऩे से मंदी का भी रिस्क

क्रिसमस और नए साल के मौके पर दुनिया भर में कोरोना केसों में इजाफे ने वल्र्ड इकॉनमी के सामने भी संकट खड़ा किया है। बमुश्किल उबर रही अर्थव्यवस्थाएं एक बार फिर से मंदी के दौर में जा सकती हैं। हालांकि ब्रिटेन, फ्रांस समेत कई देशों ने फिलहाल कड़े प्रतिबंध लगाने से इनकार किया है।


Share