पवार ने अपने ही मंत्री से पूछा सवाल, नाक के नीचे से कैसे निकल गए शिवसेना विधायक?

Sharad Pawar bluntly - 'The rebels will have to pay the price, will do anything to save the Uddhav government'
Share

मुंबई (कार्यालय संवाददाता)। महाराष्ट्र में राजनीतिक संकट गहराता जा रहा है। शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे ने बुधवार को कहा कि महाराष्ट्र के 40 से ज्यादा विधायक उनके साथ असम के गुवाहाटी आए हैं। एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में शिवसेना के बागी विधायक मुंबई से अचानक गुजरात के सूरत पहुंचे थे। किसी को भी इनके जाने की भनक तक नहीं लगी। अब सवाल उठ रहा है कि क्या 22 विधायकों के समूह के मूवमेंट पर मुंबई पुलिस का ध्यान नहीं गया।  महाराष्ट्र सरकार के तहत काम करने वाली मुंबई पुलिस राकांपा के गृह मंत्री दिलीप वालसे पाटिल को रिपोर्ट करती है। इसलिए सवाल महाराष्ट्र के गृह मंत्री पर भी उठ रहे हैं। विधायकों ने सोमवार देर रात मुंबई से भाजपा शासित गुजरात के सूरत के लिए उड़ान भरी थी। क्या राज्य के गृह मंत्री उन विधायकों की आवाजाही से अनजान थे, जिनकी सुरक्षा का ब्योरा पुलिस मुहैया कराती है?

एक रिपोर्ट के मुताबिक, एनसीपी नेता शरद पवार ने बुधवार सुबह दिलीप वलसे पाटिल और जयंत पाटिल के अलावा पार्टी के अन्य नेताओं के साथ बैठक की। रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि पवार ने अपनी नाराजगी जताई और सवाल किया कि इस बारे में कोई खुफिया जानकारी क्यों नहीं थी कि शिंदे रात के अंधेरे में विधायकों के साथ बाहर जा रहे हैं। शरद पवार ने मंगलवार को एकनाथ शिंदे की बगावत को शिवसेना का आंतरिक संकट बताया था और कहा कि उन्हें विश्वास है कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे इसे हल करेंगे।


Share