पाक सेना प्रमुख की भारत को गीदड़भभकी, जंग को हम तैयार

पाक सेना प्रमुख की भारत को गीदड़भभकी
Share

इस्लामाबाद (एजेंसी)। चीन के बाद अब उसके ‘आयरन ब्रदर’ पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने भारत को गीदड़भभकी दी है। जनरल बाजवा ने भारत को खुली चेतावनी दी कि पाकिस्तान पांचवीं पीढ़ी या हाइब्रिड वॉर को जीतने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान इस समय कई मोर्चों पर चुनौतियों का सामना कर रहा है जिसका मकसद देश और पाकिस्तानी सेना को बदनाम करना है।

पाकिस्तान के डिफेंस डे और शहीद दिवस पर रावलपिंडी में आयोजित कार्यक्रम में जनरल बाजवा ने कहा कि हम पांचवीं पीढ़ी या हाइब्रिड का सामना कर रहे हैं। इसका उद्देश्य पाकिस्तान और सेना को बदनाम करना तथा अव्यवस्था पैदा करना है। उन्होंने कहा, हम इस खतरे से वाकिफ हैं और देश की मदद से इस जंग को निश्चित रूप से जीतेंगे। भारत का नाम लिए बिना बाजवा ने कहा कि अगर हमारे ऊपर युद्ध थोपा गया तो हम हर एक आक्रामक कार्रवाई का करारा जवाब देंगे।

‘जवाबी कार्रवाई के बारे में संदेह नहीं होना चाहिए|

जनरल बाजवा ने कहा, मैं देश और पूरी दुनिया को एक संदेश देना चाहता हूं कि पाकिस्तान एक शांतिप्रिय देश है लेकिन हमारे ऊपर अगर युद्ध थोपा गया तो हम हर एक आक्रामक कार्रवाई का मुंहतोड़ जवाब देंगे। हम दुश्मन की घातक मंशा का जवाब देने के लिए तैयार हैं। पाकिस्तान की जवाबी कार्रवाई के इरादे के बारे में किसी को संदेह नहीं है। भारत के साथ 1965 की जंग में करारी शिकस्त खाने वाले पाकिस्तानी सेना प्रमुख ने दावा किया कि इस युद्ध में पाकिस्तान को जीत मिली थी।

बाजवा ने वर्ष 2019 में भारत के बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तानी कार्रवाई का उदाहरण दिया और कहा कि किसी को भी पाकिस्तान की जवाबी कार्रवाई की तैयारी के बारे में संदेह नहीं होना चाहिए। पाकिस्तानी सेना प्रमुख ने दावा किया कि हम दक्षिण एशिया में शांति चाहते हैं और अफगानिस्तान को लेकर चल रहा हमारा प्रयास इसका उदाहरण है लेकिन भारत ने गैरजिम्मेदाराना रूख अख्तियार किया है। इस दौरान उन्होंने एकबार फिर से कश्मीर का राग अलापा और कहा कि भारत ने गैरकानूनी तरह से कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म कर दिया। पाकिस्तान इसे स्वीकार नहीं करेगा।

जानें, क्या है हाइब्रिड वॉरफेयर, क्यों डरा हुआ है पाक

हाइब्रिड वॉरफेयर एक व्यापक सैन्य रणनीति है जिसके जरिए दुश्मन देश में राजनीतिक युद्ध, मिश्रित परंपरागत युद्ध और साइबर युद्ध को अंजाम दिया जाता है। साइबर युद्ध में फेक न्यूज, कूटनीति और चुनावी हस्तक्षेप के जरिए दुश्मन को प्रभावित करने प्रयास किया जाता है। भारत के खिलाफ हाइब्रिड वॉर छेड़ रखा पाकिस्तान अब भारत पर इसके लिए आरोप लगा रहा है। दरअसल, पाकिस्तान बलूचिस्तान और खैबर पख्तूनख्वा इलाके में स्थानीय जनता के जोरदार विरोध का सामना कर रहा है। इसमें कई पाकिस्तानी सैनिकों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। पाकिस्तान आरोप लगाता है कि भारत ऐसे विद्रोहियों की मदद करता है। पाकिस्तानी सेना को जन विद्रोह के और तेज होने का डर सता रहा है। बलूचिस्तान इलाके में चीन भी अरबों डॉलर का निवेश कर रहा है।


Share