हमारा लक्ष्य यही है कि भारतीय क्रिकेट शिखर पर पहुंचे : विराट | ‘कल को मैं कप्तान नहीं रहूंगा, राहुल भाई कोच नहीं रहेंगे’

Our aim is to make Indian cricket reach the pinnacle: Virat
Share

मुंबई (कार्यालय संवाददाता)। टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड को मुंबई टेस्ट में 372 रनों से पीटा, इस जीत के बाद कप्तान विराट कोहली ने भारतीय क्रिकेट के फ्यूचर को लेकर जो बातें कहीं, उसने करोड़ों क्रिकेट फैन्स का दिल जीत लिया। विराट ने कहा कि कोई भी कप्तान हो, कोई भी हेड कोच हो या कोई भी मैनेजमेंट हो, सबका लक्ष्य एक ही है कि हम भारतीय क्रिकेट को शिखर पर पहुंचाएं। विराट ने साथ ही बताया कि क्यों टीम इंडिया कानपुर टेस्ट जीत नहीं पाई थी। मुंबई टेस्ट जीतने के साथ ही टीम इंडिया ने टेस्ट सीरीज 1-0 से अपने नाम कर ली। विराट ने सोमवार को मैच खत्म होने के बाद कहा, कानपुर में न्यूजीलैंड की टीम ने अच्छा मैच ड्रॉ कराया। वहां पिच पांचवें दिन की तरह बर्ताव नहीं कर रही थी, गेंदबाजों ने पूरी कोशिश की थी। लेकिन यहां पर अच्छा विकेट था, टर्न था और बाउंस था, जिसकी वजह से गेंदबाजों को अपना काम करने में मुश्किल नहीं आई। हम सभी देश की सेवा कर रहे हैं, पहले रवि भाई थे, अब राहुल भाई हैं।

विराट ने आगे कहा, हम नए लीडर बनाना चाहते हैं, हम ऐसे खिलाड़ी बनाना चाहते हैं, जो आगे आकर अपना काम करें। कल को मैं कप्तान नहीं रहूंगा, कल को राहुल भाई कोच नहीं रहेंगे, लेकिन हमारा लक्ष्य यही है कि भारतीय क्रिकेट शिखर पर पहुंचे। उन्होंने कहा, हमने साउथ अफ्रीका में पिछली बार अच्छा किया था। हम समझ चुके हैं। विदेश में हम पिछले कुछ सालों से अच्छा करते आ रहे हैं। अब मौका है कि साउथ अफ्रीका में एक अच्छा क्रिकेट खेला जाए।

इस बेहतरीन जीत के बाद भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने पूर्व कोच रवि शास्त्री और नए कोच राहुल द्रविड़ पर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि मैनेजमेंट आता-जाता रहता है, लेकिन सबसे महत्वपूर्ण भारतीय टीम की सफलता है। उन्होंने मैच के बाद कहा, नए मैनेजमेंट के साथ भी भारतीय क्रिकेट को आगे ले जाने की मानसिकता समान (जिस तरह हेड कोच रवि शास्त्री की टीम के साथ थी) है। भारतीय क्रिकेट के मानकों को बनाए रखना और यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि यह हमेशा बढ़ता रहे।

उन्होंने टीम के प्रदर्शन की जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा, फिर से जीत के साथ वापस आना शानदार एहसास है। पहला टेस्ट अच्छा था और यहां टीम ने बेहतरीन प्रदर्शन जारी रखा। गेंदबाजों ने हर संभव कोशिश की, लेकिन कीवी बल्लेबाजों ने कानपुर में अच्छी कोशिश की थी। यहां उछाल ज्यादा था और तेज गेंदबाजों का भी सहयोग मिला।


Share