आतंक का साथ देने वाले देशों का हो विरोध

आतंक का साथ देने वाले देशों का हो विरोध
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ब्रिक्स शिखर सम्मेलन को संबोधित किया। प्र.म. ने इस दौरान संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद समेत अंतरराष्ट्रीय संगठनों में सुधार की पुरजोर मांग दोहराई। इसके अलावा उन्होंने आतंकवाद का समर्थन करने वाले देशों को दंडित किए जाने की जरूरत पर जोर दिया। प्रधानमंत्री मोदी ने इस दौरान रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की जमकर तारीफ की लेकिन चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग का उन्होंने जिक्र तक नहीं किया। प्र.म. के भाषण के दौरान जिनपिंग कैमरे के बजाय ज्यादातर वक्त अपने बायें तरफ देखते रहे।

’75 वर्ष पुराने विश्व की मानसिकता में यूएन, सुधार जरूरी’

संयुक्त राष्ट्र खासकर यूएनएससी में मौजूदा समय के हिसाब से बदलाव का मुद्दा उठाते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, आज मल्टिलेटरल सिस्टम एक संकट के दौर से गुजर रहा है। ग्लोबल गवर्नेंस के संस्थानों की क्रेडिबिलिटी और इफेक्टिवनेस दोनों पर ही सवाल उठ रहे हैं। इसकी वजह यह है कि इनमें समय के साथ उचित बदलाव नहीं आया है। ये अभी भी 75 साल पुराने के विश्व की मानसिकता और वास्तविकता पर आधारित हैं। भारत का मानना है कि यूएन सिक्योरिटी काउंसिल में रिफॉर्म्स बहुत ही अनिवार्य है। इस विषय पर हमें अपने ब्रिक्स पार्टनर्स के समर्थन की अपेक्षा है।

प्रधानमंत्री मोदी ने संयुक्त राष्ट्र के अलावा दूसरे अंतरराष्ट्रीय संगठनों में भी सुधार की जरूरत बताई। उन्होंने कहा, यूएन के अतिरिकत कई अन्य अंतरराष्ट्रीय संगठन भी वर्तमान वास्तविकताओं के हिसाब से काम नहीं कर रहे हैं। डब्ल्यूटीओ, आईएमएफ, डब्ल्यूएचओ जैसे संस्थानों में भी सुधार होना चाहिए।

‘आतंकवाद सबसे बड़ी समस्या, इसका समर्थन करने वाले देश दोषी ठहराए जाएंÓ

आतंकवाद को विश्व की सबसे बड़ी समस्या बताते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, आतंकवाद आज विश्व के सामने सबसे बड़ी समस्या है। हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि आतंकवादियों को समर्थन और सहायता देने वाले देशों को भी दोषी ठहराया जाए और इस समस्या का संगठित तरीके से मुकाबला किया जाए। हमें खुशी है कि रूस की अध्यक्षता के दौरान ब्रिक्स काउंटर टेररजिज्म स्ट्रेटिजी को अंतिम रूप दे दिया गया है। यह एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है और भारत इस कार्य को अपनी अध्यक्षता के दौरान और आगे बढ़ाएगा।

‘ब्रिक्स देशों में आपसी व्यापार बढ़ाने का बहुत स्कोप’

प्र.म. मोदी ने कहा कि कोविड के बाद वैश्विक अर्थव्यवस्था में रिकवरी में ब्रिक्स देशों का अहम योगदान होगा। उन्होंने कहा, कोविड के बाद की वैश्विक रिकवरी में ब्रिक्स इकॉनमीज की अहम भूमिका होगी। हमारे बीच विश्व की 42 प्रतिशत से अधिक आबादी बसती है।

हमारे देश ग्लोबल इकॉनमी के मुख्य इंजन में से हैं। ब्रिक्स देशों के बीच आपसी व्यापार बढ़ाने का बहुत स्कोप है। हमारी आपसी संस्थाएं और सिस्टम जैसे ब्रिक्स इंटरबैंक कोऑपरेशन मकैनिजम, न्यू डिवेलपमेंट बैंक, कस्टम्स को-ऑपरेशंस भी वैश्विक रिकवरी में हमारे योगदान को कारगर बना सकते हैं।

कोरोना वैक्सीन पर दुनिया को फिर दिया भरोसा

प्र.म. मोदी ने एक बार फिर दुनिया को भरोसा दिया कि भारत की वैक्सीन उत्पादन और डिलिवरी क्षमता पूरे विश्व में मानवता के हित में काम आएगी। उन्होंने कहा, भारत में हमने आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत एक व्यापक रिफॉर्म प्रोसेस शुरू किया है। कोविड के दौरान भारतीय फार्मा उद्योग की क्षमताओं के कारण हम 50 से ज्यादा देशों को दवाएं भेज पाए। हमारी वैक्सीन उत्पादन और डिलिवरी क्षमता भी मानवता के हित में काम आएगी। अपनी ब्रिक्स अध्यक्षता के दौरान भारत डिजिटल हेल्थ और ट्रेडिशनल मेडिसिन में सहयोग बढ़ाने पर काम करेगा। इस मुश्किल दौर में भी रूसी अध्यक्षता में लोगों के बीच संपर्क बढ़ाने के लिए कई अहम पहल किए गए जैसे युवा वैज्ञानिकों, राजनयिकों की बैठकें, ब्रिक्स फिल्म फेस्टिवल। इसके लिए राष्ट्रपति पुतिन को बधाई।


Share