राज्यसभा उपसभापति चुनाव में एकजुटता दिखाने को तैयार विपक्ष

राज्यसभा उपसभापति चुनाव में एकजुटता दिखाने को तैयार विपक्ष
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। मानसून सत्र के पहले दिन होने वाले राज्यसभा उपसभापति पद के चुनाव को लेकर विपक्ष एकजुट खड़ा दिखाई दे रहा है। इस मामले के जानकार लोगों ने बताया कि विपक्ष इस चुनाव में संयुक्त उम्मीदवार उतारने जा रहा है। कांग्रेस के एक नेता ने बताया कि यह फैसला मंगलवार को हुई कांग्रेस की एक बैठक में लिया गया।

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के नेतृत्व में हुई बैठक में मानसून सत्र को लेकर रणनीति बनी। 14 सितंबर से शुरू हो रहे सत्र में कांग्रेस समेत विपक्ष केंद्र सरकार को भारत-चीन मुद्दे पर घेरने की तैयारी कर रही है। हरिवंश नारायण सिंह का पहला कार्यकाल इस साल अप्रैल महीने में खत्म हो चुका है। वे दोबारा राज्यसभा में चुनकर आए हैं।

हालांकि, माना जा रहा है राज्यसभा उपसभापति पद के लिए एनडीए एक बार फिर से हरिवंश को उम्मीदवार बना सकता है। अगस्त, 2018 में कांग्रेस नेता पीजे कुरियन के कार्यकाल खत्म होने के बाद जदयू सांसद हरिवंश को उपसभापति बनाया गया था।

बतौर एनडीए उम्मीदवार, हरिवंश ने कांग्रेस कैंडिडेट बीके हरि प्रसाद को हराते हुए 125 वोट हासिल किए थे, जबकि कांग्रेस उम्मीदवार को 105 वोट ही मिल सके थे। इस बार उपसभापति पद का चुनाव मानसून सत्र के पहले दिन 14 सितंबर को होगा। नामांकन दाखिल करने की आखिरी तारीख 11 सितंबर है। वहीं, बीते लोकसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद से ही निचले सदन में डिप्टी स्पीकर का पद भी खाली है।

मानसून सत्र की रणनीति पर हुई कांग्रेस की बैठक में कई मुद्दों पर चर्चा हुई। कोरोना वायरस से हालात के अलावा, कांग्रेस समेत विपक्षी दल सदन में लॉकडाउन, प्रश्नकाल, फेसबुक मामला, जीडीपी दर में गिरावट, राज्यों को जीएसटी देने की मांग समेत कई अन्य मुद्दे उठाने जा रहे हैं।

बैठक में कौन-कौन हुआ शामिल?

इस बैठक में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, राहुल गांधी, राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा, अधीर रंजन चौधरी, गौरव गोगोई, जयराम रमेश समेत कई कांग्रेसी नेता शामिल हुए। वहीं, कुछ दिनों पहले हुई बैठक में ममता बनर्जी, महाराष्ट्र सीएम उद्धव ठाकरे, झारखंड सीएम हेमंत सोरेन आदि भी शामिल हो चुके हैं।


Share