सिर्फ भारतीय कंपनियों को मिलेगा वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन बनाने का मौका

सिर्फ भारतीय कंपनियों को मिलेगा वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन बनाने का मौका
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेनों की सफलता को देखते हुए रेलवे ने अब देश में 44 नए ट्रेन सेट तैयार करने का फैसला लिया है। इसके लिए नए सिरे से टेंडर जारी किए गए हैं और इस बार सिर्फ घरेलू कंपनियों को ही बोली लगाने की अनुमति होगी। यह बोली पूरी तरह से ऑनलाइन और लाइव होगी। सबसे कम मूल्य पर बोली लगाने वाली कंपनी को यह टेंडर दिया जाएगा। सोमवार को जारी नए टेंडर को आत्मनिर्भर भारत योजना के तहत लाया गया है। इसकी वजह यह है कि इन ट्रेन सेट्स में 75 फीसदी स्थानीय सामान लगेगा। इससे पहले यह लिमिट 50 फीसदी की ही थी। इसके अलावा भारत में पंजीकृत कंपनियां ही इसके लिए आवेदन कर सकेंगी।

दरअसल पिछली बार जो टेंडर जारी किया गया था, उसमें चीन की एक कंपनी ने ट्रेन सेट बनाने की इच्छा जाहिर की थी। इस वजह से पिछली बार इस पूरे टेंडर को निरस्त कर दिया गया था। फिलहाल दिल्ली से वैष्णो देवी और वाराणसी के लिए वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेनों का संचालन हो रहा है। टेंडर के मुताबिक ये ट्रेन सेट्स चेन्नै, कपूरथला और रायबरेली में स्थित रेल कोच फैक्ट्रियों में तैयार किए जाएंगे।

बोली प्रक्रिया के बारे में बताते हुए एक सूत्र ने कहा कि टेंडर के तहत सबसे कम बोली लगाने वाली कंपनी को मौका मिलेगा। बोली लगाने के बाद एक घंटे का वक्त अपनी बोली को रिवाइज करने के लिए मिलेगा। यही नहीं बोली लगाने वाली कंपनियां यह नहीं जान सकेंगी कि प्रतिस्पर्धी कंपनी ने क्या बोली लगाई है।

रेलवे ने तीनों कोच फैक्ट्रियों को निर्माण का मौका इसलिए देने का फैसला लिया है ताकि जल्द से जल्द ट्रेन सेट तैयार हो सकें। वाराणसी से दिल्ली और दिल्ली से वैष्णो देवी के रूट पर चल रहीं वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेनें काफी लोकप्रिय हुई हैं और लोग इनमें सफर करना पसंद कर रहे हैं। इसीलिए रेलवे ने अब और ट्रेनें तैयार करने और संचालन का फैसला लिया है।


Share