फिल्म ‘नायक’ में एक दिन का सीएम, बिहार में भी रहे हैं पांच दिन के मुख्यमंत्री

फिल्म 'नायक' में एक दिन का सीएम
Share

पटना (एजेंसी)। बॉलीवुड फिल्म ‘नायकÓ याद है आपको? उसमें अनिल कपूर मुख्य किरदार में एक दिन के मुख्यमंत्री के रूप में नजर आए थे। बिहार में एक दिन तो नहीं, लेकिन पांच दिन के मुख्यमंत्री जरूर हुए हैं। बिहार के मुख्यमंत्रियों का इतिहास बताता है कि अभी तक इस कुर्सी तक 23 नेता पहुंचे हैं, मगर इनमें से महज 13 ही साल भर से अधिक का कार्यकाल पूरा कर सके। इनमें 10 नेता तो ऐसे थे जो एक साल यानी 365 दिनों से भी कम समय तक मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठ सके। एक सतीश प्रसाद सिंह तो महज पांच दिन के मुख्यमंत्री रहे।

सबसे कम पांच दिन के सीएम रहे सतीश प्रसाद सिंह

बिहार के इतिहास में सबसे कम समय तक मुख्यमंत्री रहने का रिकॉर्ड संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी के नेता सतीश प्रसाद सिंह के नाम है। वे महज पांच दिन के लिए मुख्यमंत्री बने थे। दरअसल, 1967 में हुए चौथे विधानसभा चुनाव में कांग्रेस बहुमत नहीं पा सकी। इसके कारण बिहार में पहली गैर-कांग्रेसी सरकार बनी। तब जनक्रांति दल में रहे महामाया प्रसाद सिन्हा को पहला गैर-कांग्रेसी मुख्यमंत्री बनाया गया, मगर 330 दिनों तक सत्ता संभालने के बाद उन्हें कुर्सी छोडऩी पड़ी। इसके बाद संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी के नेता सतीश प्रसाद सिंह मुख्यमंत्री बनाए गए मगर वह भी पांच दिन में हटा दिए गए। इसके बाद बीपी मंडल को मुख्यमंत्री की शपथ दिलाई गई मगर वे भी महज 31 दिन ही सीएम की कुर्सी संभाल सके।

भोला पासवान शास्त्री : तीन बार पद मिला, फिर भी 333 दिन ही रहे सीएम

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भोला पासवान शास्त्री वर्ष 1968-72 के बीच तीन बार बिहार के मुख्यमंत्री बने मगर तीनों कार्यकाल मिलाकर भी वे एक साल से अधिक सीएम नहीं रह सके। वह पहली बार 100 दिन, दूसरी बार 13 दिन और तीसरी बार 222 दिनों के लिए मुख्यमंत्री बने। तीनों कार्यकाल मिलाकर वे कुल 335 दिनों तक मुख्यमंत्री रहे।


Share