अब तबाही मचाने आ गया ‘फ्लोराना’, इजराइल में मिला पहला मामला

Now 'Flora' has come to wreak havoc, first case found in Israel
Share

तेल अवीव (एजेंसी)। पूरी दुनिया इस समय कोरोना संकट से जूझ रही है। जहां भारत में कोरोना की दो भयानक लहर गुजर चुकी हैं और तीसरी का खतरा मंडरा रहा है तो वहीं दुनिया के कई देशों में चौथी लहर जारी है। ऐसे में जहां एक तरफ दुनिया कोरोना संकट को झेल नहीं पा रही है तो वहीं अब एक और बीमारी ने दस्तक दे दी है, नाम है- फ्लोरोना। इजराइल ने ‘फ्लोरोना’ बीमारी का पहला मामला दर्ज किया। इसने कहा कि यह बीमारी कोविड-19 और इन्फ्लूएंजा का दोहरा संक्रमण है। अरब न्यूज ने ट्वीट किया, इजराइल में फ्लोरोना रोग का पहला मामला दर्ज किया गया, यह कोविड 19 और इन्फ्लूएंजा का दोहरा संक्रमण है। इस बीच, इजराइल के राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्रदाताओं ने शुक्रवार को कमजोर इम्युनिटी वाले व्यक्तियों को कोविड-19 के खिलाफ चौथा टीका देना शुरू कर दिया है।

क्या गंभीर बीमारी बन  सकते है फ्लोरोना?

इस बामारी का खुलासा इजराइली अखबार ने किया है। अखबार के मुताबिक इस सप्ताह रैबिन मेडिकल सेंटर में बच्चे को जन्म देने आई एक गर्भवती महिला में दोहरे संक्रमण का पहला मामला दर्ज किया गया है। वैसे आपको बता दें कि अभी तक इस बीमारी को लेकर स्वास्थ्य विशेषज्ञों की तरफ से कोई बयान नहीं आया है। इसलिए अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि क्या यह दो वायरस का संयोजन अधिक गंभीर बीमारी का कारण बन सकता है? वैसे को इजराइल में ये अभी तक का इकलौता मामला है लेकिन माना जा रहा है अन्य रोगियों में भी ‘फ्लोरोना’ मौजूद हो सकता है जो जांच न होने के चलते सामने नहीं आया।

इजराइल में दिया जा रहा चौथा बूस्टर डोज : इस बीच टाइम ऑफ इजराइल ने बताया कि स्वास्थ्य मंत्रालय के महानिदेशक नचमन ऐश ने आज ओमिक्रॉन वैरिएंट की लहर के कारण कम इम्युनिटी वाले लोगों के लिए बूस्टर डोज की इजाजत दे दी। बता दें कि इजरायल दुनिया का पहला और फिलहाल अकेला देश है जहां कोरोना से बचाव के लिए दो बूस्टर डोज लगाई जा रही हैं। शुक्रवार की सुबह ऐश ने वृद्ध रोगियों के लिए जेरियाट्रिक सुविधाओं के टीके को भी मंजूरी दी।


Share