राजस्थान में लॉ एंड ऑर्डर नहीं, ‘लो और ऑर्डर करो’ सरकार

Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने रविवार को जनप्रतिनिधि संकल्प महासम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि 2023 के चुनावों में निकम्मी और भ्रष्टाचारी गहलोत सरकार को उखाड़कर फेंक देना है और भाजपा की कमल निशान वाली सरकार बनानी है। उन्होंने गहलोत सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, पूरे राजस्थान में लॉ एंड ऑर्डर की व्याख्या ही बदल गई है। लॉ एंड ऑर्डर का मतलब होता है- ‘कानून और व्यवस्था’। गहलोत सरकार के लॉ एंड ऑर्डर का मतलब है, ‘लो और ऑर्डर करो’। राजस्थान की गहलोत सरकार पूरी भ्रष्ट सरकार है।

पेट्रोल-डीजल के दाम घटा दो, वरना जनता राह देख रही

पेट्रेाल-डीजल की सबसे ज्यादा कीमत राजस्थान में होने को लेकर उन्होंने कहा कि मोदी जी ने पूरे देश में पेट्रोल व डीजल के टैक्स घटाए, लेकिन राजस्थान एक ऐसा राज्य है, जहां के सीएम को तिजोरी बहुत पसंद है। मैं गहलोत जी से विनती करता हूं कि पेट्रोल के दाम घटा दो, वरना जनता राह देख रही है। गहलोत गरीबों को किसी तरह की सुविधा नहीं दे रही है। वसुंधरा सरकार के कई कल्याणकारी योजनाओं को तोड़-मरोड़ दिया है। आज राजस्थान में हर व्यक्ति के ऊपर 65 हजार रूपए का कर्ज है।

राहुल गांधी कम से कम ट्वीट तो करते हैं

साथ ही शाह ने राहुल गांधी पर भी चुटकी ली। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी कोई काम करते हों या न करते हों, कम से कम ट्वीट तो करते ही हैं। कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि सत्तर के दशक में गरीबी हटाओ का नारा दिया था, जब मोदी जी आए तब भी करोड़ों घरों में बिजली नहीं थी, चूल्हा जलता नहीं था, शौचालय की व्यवस्था नहीं थी। वे सुन लें कि कांग्रेस ने गरीबी हटाने का नहीं, गरीब ही हटाने का काम किया।

मोदी के नेतृत्व में लड़ा जाएगा चुनाव

इससे पहले, अमित शाह ने कार्यसमिति में सभी राजस्थान भाजपा नेताओं को साफ कह दिया है कि अगले चुनाव राजस्थान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में ही होंगे। उन्होंने कहा मिशन 2023 के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में चुनाव के लिए सभी एकजुट होकर तैयारियां शुरू करें।

वसुंधरा बोलीं- गहलोत सरकार अदृश्य है, सरकार बचाने में लगे हैं

वसुंधरा राजे ने कहा कि गहलोत जी की सरकार अदृश्य है। कानून व्यवस्था और सरकार दोनों गायब है। 3 साल हो गए, गहलोत सरकार बचाने में लगे हैं। 2 साल निकल गए, कभी गिर रही है, कभी खड़ी हो रही है। अभी कैबिनेट रिसफल हुआ उसमें भी यह देखा गया कि कोई इधर उधर जाने वाला तो नहीं है। उन्होंने कहा कि गहलोत सरकार ने भाजपा राज की योजनाओं को या तो बंद कर दिया या उन्हें बन्द ही कर दिया। अन्नपूर्णा योजना को बंद कर दिया। अन्नपूर्णा रसोई को बंद तो नहीं किया लेकिन उसका नाम इंदिरा गांधी के नाम कर दिया। नाम बदल दो वह भी कोई बात नहीं लेकिन उसमे कैसा घटिया खाना दे रहे हैं। जनता सरकार बदलने को तैयार बैठी है, 2023 दूर नहीं है। वसुंधरा राजे ने अपने भाषण का आधे समय अमित शाह और प्र.म. मोदी की तारीफ में लगाया। राजे ने अमित शाह को भाई साहब कहकर संबोधित किया। केंद्र सरकार के कामकाज की जमकर तारीफ की।


Share