हत्यारों को लेकर तड़के कन्हैयालाल की दुकान पर पहँची एनआईए टीम, पूछताछ की, पुलिस के जवानों ने चारों ओर से की घेराबंदी, आमजन की आवाजाही पर लगाई रोक

NIA team reached Kanhaiyalal's shop in the early hours regarding the killers, interrogated
Share

उदयपुर. नगर संवाददाता & देश में चचिर्त रहे कन्हैयालाल साहू हत्याकांड के दोनों मुख्य आरोपियों को कड़ी सुरक्षा के बीच एनआईए शुक्रवार को उदयपुर पहुंची। शनिवार तड़के एनआईए की टीम भारी जाब्ते के साथ मालदास स्ट्रीट में कन्हैयालाल की दुकान पर पहुंची, जहां पर टीम ने हत्यारो से दुकान के पास खड़ाकर पूछताछ की, इस दौरान यह जाना की हत्यारो में से कौन कहां पर खड़ा था। साथ ही वहां पर कैसे पहुंचे, कैसे भागे इन सब प्रश्नों के बारे में उनसे पूछताछ करते हुए नक्शा मौका बनाया। करीब 26 मिनिट तक जांच-पड़ताल की गई। इस दौरान पूरे एरिये को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया।

शहर के व्यस्तम क्षैत्र हाथीपोल अंदर मालदास स्ट्रीट भूतमहल में सुप्रीम टेलर की शॉप चलाने वाले टेलर मास्टर कन्हैयालाल साहू द्वारा नुपूर शर्मा के समर्थन में सोशल मीडिया पर पोस्ट डालने को लेकर 28 जून को रियाज अत्तारी व गौस मोहम्मद ने छुर्रे से दिनदहाड़े गला काटकर कन्हैयालाल की हत्या कर दी। मामले की जांच एनआईए कर रही है। एनआईए के अधिकारी शुक्रवार को अजमेर की हाई सिक्योरिटी जेल से इन दोनों कुख्यात आरोपियों को बापर्दा लेकर उदयपुर पहुंचे और रातभर उन्हें भुपालपुरा थाने पर कड़ी सुरक्षा के बीच रखा। जहां पर उनसे इस हत्याकांड से जुड़े मामले के बारे में पूछताछ की गई और धानमण्डी थाने से भी इस हत्याकांड से जुड़ी पूर्व में दर्ज शिकायत एवं बाद में हुई कार्यवाही सम्बन्धी सभी दस्तावेज तलब किये। रातभर दस्तावेजों की जांच की गई। शनिवार अल सुबह एनआईए के एसपी रवि कुमार के नेतृत्व में टीम दोनों आरोपी गौस मोहम्मद व रियाज अत्तारी को लेकर घटनास्थल की तरफ गई और साथ ही स्थानीय पुलिस अधिकारियों को इसकी सूचना दी। डेढ़ सौ से अधिक पुलिस अधिकारियों एवं जवानों को तैनात किया गया। दोनों आरोपियों को लेकर एनआईए के अधिकारी वहां पहुंचते उससे पहले पुलिस अधिकारियों ने बोहरवाड़ी, कारवाड़ी, सिलावटवाड़ी, मालदास स्ट्रीट और हाथीपोल से अंदर आने वाले रास्ते को पूरी तरह से सीज कर दिया और किसी भी व्यक्ति को अंदर प्रवेश नहीं दिया गया। केवल कुछ ही मीडियाकर्मी मौके पर पहुंचे लेकिन उन्हें भी घटनास्थल की तरफ नहीं जाने दिया। करीब पांच बजे बंद गाड़ी में दोनों आरोपियों को लेकर अधिकारी मौके पर पहुंचे। दोनों आरोपियों से मौके पर टीम ने पूछताछ की, आरोपियों से केवल बंद कांच से ही पूरे घटनास्थल के बारे में किधर से आए, किधर भागे इस बारे में पूछताछ की और उनके बयान लेखबद्ध किये, मौका नक्शा बनाया। करीब 26 मिनिट तक मौके की कार्यवाही करने के बाद पुलिस की गाड़ी मालदास स्ट्रीट से टर्न कर पुन: हाथीपोल होते हुए निकल गई। इस मामले में अब तक एनआईए सात आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है।

मालदास स्ट्रीट में घुसते ही गाड़ी नाली में फंसी

दोनों आरोपियों को जिस गाड़ी में मौके पर लाया जा रहा था वह गाड़ी जैसे ही मालदास स्ट्रीट के अंदर घुसी तो नाली के अंदर उसका पिछला पहिया उतर गया जिससे गाड़ी जाम हो गई। पुलिसकर्मियों ने गाड़ी को उठाया, पत्थर डालकर काफी मशक्कत कर गाड़ी को बाहर निकाला।

छतों से स्थानीय लोगों ने देखी कार्यवाही

स्थानीय लोगों ने अल सुबह सायरन की आवाजें सुनी तो उनकी नींद खुल गई और वे अपने घरों से बाहर निकलकर खिड़कियों, झरोखों व छतों से झांकने लगे लेकिन किसी ने भी अपने घरों में मीडियाकर्मियों को प्रवेश नहीं दिया। इस दौरान कुछ लोगों ने अपने मोबाइल से फोटो खिंचे व विडियो बनाये। विडियो बनाने के दौरान जब एनआईए अधिकारी की नजर पड़ गई तो उसने कांच पर हाथ रख दिया जिससे उनकी शक्ल साफ नहीं दिखाई दे रही, दोनों आरोपियों की किसी ने भी झलक नहीं देखी।

जहां वीडियो बनाया वहां भी किया निरीक्षण

गौस मोहम्मद व रियाज ने हत्या के बार जहां पर हथियार बनाये और सोशल मीडिया पर भय पैदा करने के लिए हत्याकांड का लाईव विडियो व चेतावनी वाला विडियो बनाया उस एसके इंटरप्राइजेज पर भी टीम दोनों आरोपियों को ले गई। जहां पर भी साक्ष्य जुटाए और जानकारी हासिल की।

हथियारबंद एनआईए के जवान गाड़ी के इर्दगिर्द दौड़ते रहे

शहर के भीतरी मोहल्ले हाथीपोल से लेकर मालदास स्ट्रीट तक एनआईए के जवान आधुनिक शस्त्र लेकर जिस गाड़ी में दोनों आरोपी बैठे थे उसको घेरकर इर्दगिर्द दौड़ रहे थे। गाड़ी के पास किसी को भी फटकने नहीं दिया जा रहा था, यहां तक पुलिसकर्मियों को भी इसकी इजाजत नहीं थी।


Share