बच्चों के लिए नई गाइडलाइन, 5 साल से कम उम्र है तो मास्क की सिफारिश नहीं

New guideline for children, if they are less than 5 years of age, then masks are not recommended
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। सरकार ने गुरूवार को बच्चों के लिए नई कोरोना गाइडलाइन जारी की है। इसमें 5 साल तक, 6 से 11 साल और 12 से 18 साल के किशोरों के लिए अलग-अलग सुझाव हैं। 18 साल से कम उम्र के बच्चों के संक्रमित होने पर एंटीवायरल या मोनोक्लोनल एंटीबॉडी का इस्तेमाल नहीं करने का सुझाव दिया गया है। भले ही संक्रमण की गंभीरता कैसी भी हो। अगर उन्हें स्टेरायड दिया जाता है तो इसे क्लिनिकल इम्प्रूवमेंट के आधार पर 10 से 14 दिनों में कम करने के लिए कहा गया है।

इसके अलावा स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह भी कहा कि 5 साल और इससे कम उम्र के बच्चों के लिए मास्क की सिफारिश नहीं की जाती है। 6 से 11 साल के बच्चे माता-पिता की देखरेख में मास्क पहन सकते हैं। मंत्रालय ने कहा है कि 12 साल और उससे ज्यादा उम्र के किशोरों को वयस्कों की तरह ही मास्क पहनना चाहिए।

8 महीने बाद नए संक्रमितों का आंकड़ा 3 लाख के पार

देश में बुधवार को 3.17 लाख नए केस मिले हैं। इस दौरान 2.23 लाख लोग ठीक हुए, जबकि 491 लोगों की मौत हुई है। वहीं, पिछले दिन के मुकाबले नए संक्रमितों में 34,562 की बढ़ोतरी देखने को मिली है। इससे पहले 18 जनवरी को 2.82 लाख लोग संक्रमित मिले थे। देश में 8 महीने बाद नए संक्रमितों का आंकड़ा 3 लाख के पार पहुंचा है। दूसरी लहर में केस घटने के दौरान 15 मई को 3.11 लाख केस मिले थे। एक्टिव केस यानी इलाज करा रहे मरीजों की संख्या में 91 हजार 519 की बढ़ोतरी दर्ज की गई। फिलहाल देश में 19.24 लाख एक्टिव केस हैं। देश में पहली बार 2 लाख से ज्यादा मरीज(2,23,990) ठीक भी हुए हैं।

दिल्ली में 24 घंटे में 43 मौतें, दूसरी लहर के बाद सबसे ज्यादा

दिल्ली में गुरूवार को कोरोना से 43 लोगों की जान गई। यह आंकड़ा दूसरी लहर यानी 10 जून के बाद सबसे ज्यादा है। पिछले साल 10 जून को दिल्ली में 44 लोगों की जान गई थी। हालांकि, रोजाना के केसेस में 11त्न की कमी दर्ज की गई है। बुधवार को यहां 13,785 मामले सामने आए थे और गुरूवार को आंकड़ा 12,306 का रहा।

यूपी-महाराष्ट्र समेत 10 राज्यों में एक्टिव केस सबसे ज्यादा

सरकार ने कहा है कि तीसरी लहर में मौतें दूसरी लहर के मुकाबले काफी कम हुई हैं। स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने गुरूवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि यूपी, महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, केरल, बंगाल, गुजरात, ओडिशा, दिल्ली और राजस्थान में एक्टिव केस सबसे ज्यादा है। आईसीएमआर के डीजी डॉ. बलराम भार्गव ने कहा कि वैक्सीनेशन भारत के लिए फायदेमंद साबित हुआ है। वैक्सीनेश के चलते ही तीसरी लहर में मौतों की संख्या काफी घटी है। वैक्सीनेशन ज्यादा होने की वजह से ही हम गंभीर संक्रमण और बहुत ज्यादा मौतें नहीं देख रहे हैं।

देश में 160 करोड़ वैक्सीन का आंकड़ा पार हुआ

देश में वैक्सीन के 160 करोड़ डोज दिए जा चुके हैं। गुरूवार को स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने ट्विटर पर इस बात की जानकारी दी। इसके साथ ही देश में फुली वैक्सीनेटेड लोगों की संख्या 66 करोड़ हो गई है। यह कुल आबादी का 48% है।


Share