नक्सलियों ने मीडियाकर्मियों को फोन कर किया दावा- ‘हमारे कब्जे में है जवान, छोडऩे के लिए रखी शर्त’

छत्तीसगढ़ नक्सल मुठभेड़: छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के साथ झड़प में 5 जवान शहीद; 10 घायल
Share

रायपुर (एजेंसी)।  छत्तीसगढ़ के बीजापुर में नक्सलियों से हुई मुठभेड़ के बाद लापता सुरक्षा बल के जवान नक्सलियों के कब्जे में है। नक्सलियों ने माडियाकर्मियों को फोन कर यह दावा किया है। उन्होंने फोन पर कहा है कि वो जवान को कोई नुकसान नहीं पहुंचाएंगे। उनकी रिहाई के लिए शर्त रखी है।

जम्मू-कश्मीर के हैं लापता जवान राजेश्वर

लापता जवान का नाम राजेश्वर सिंह मनहास है। वो जम्मू-कश्मीर के निवासी हैं और कोबरा बटालियन का हिस्सा हैं।

नक्सलियों ने पत्रकारों को फोन करके शर्त रखी कि वो राजेश्वर सिंह को छोडऩे को तैयार है, लेकिन उन्हें वादा करना होगा कि वो सुरक्षा बल में कार्यरत नहीं रहेंगे और यह नौकरी छोड़कर कोई दूसरा काम करेंगे।

परिवार का बुरा हाल

राजेश्वर सिंह के परिवार वालों का बुरा हाल है। उन्हें कंट्रोल रूम से बताया गया है कि राजेश्वर लापता हैं। न्यूज चैनलों पर उनके नक्सलियों के कब्जे में होने की बात कही जा रही है। जम्मू में उनके घर में लोग पहुंच रहे हैं। राजेश्वर की मां, पत्नी और छोटी सी बेटी रो-रो कर बेहाल हैं।

पत्नी ने सरकार से की मांग

राजेश्वर की पत्नी ने छत्तीसगढ़ सरकार से मांग की है कि नक्सलियों की जो भी मांगें हैं, उन्हें पूरा किया जाए और मेरे पति को रिहा किया जाए। मेरे पति करीब चार साल से कोबरा कमांडो में ड्यूटी दे रहे हैं। सरकार को अपना जवान किसी भी कीमत पर वापस लाना होगा। वह मेरे पति नहीं हैं, वह देश के जवान भी हैं। पत्नी ने यह भी कहा है कि उनके ससुर भी सीआरपीएफ में रहते हुए जान गंवा चुके हैं। आखिरी बार फोन पर हुई बातचीत में उन्होंने कहा था कि शनिवार को बात करूंगा। हम लगातार फोन लगा रहे हैं, लेकिन कोई सूचना नहीं है। कंट्रोल रूम वाले बता रहे हैं कि वह लापता हैं। टीवी न्यूज पर बताया जा रहा है कि वह नक्सलियों के कब्जे में हैं।

मां ने प्र.म. मोदी से की अपील

राजेश्वर की मां का कहना है कि शुक्रवार को साढ़े नौ बजे बेटे से बात हुई थी। उस समय उन्होंने कहा था कि मैं ऑपरेशन पर जा रहा हूं, शनिवार को बात करूंगा। हम लागतार फोन लगा रहे हैं, लेकिन कोई सूचना नहीं है। मां ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील है कि मेरा बेटा जल्द वापस आ जाए। वही मेरा सहारा है। राजेश्वर के परिजनों ने बताया कि उनके साले की शादी होने वाली है। उनकी पत्नी इसकी तैयारियों में लगी थीं। तीन दिन पहले पता चला कि वह ऑपरेशन में गए हैं।


Share