आम लोगों की हत्याओं के बाद कश्मीर में 700 से ज्यादा लोग हिरासत में लिए- आतंकियों के मददगार होने का शक

चीन से तनाव के बीच 370 आतंकियो
Share

श्रीनगर (एजेंसी)। जम्मू-कश्मीर में आम लोगों पर हमलों के बाद हरकत में आए सुरक्षाबलों ने 700 से ज्यादा लोगों को हिरासत में लिया है। इन्हें आतंकियों का मददगार बताया जा रहा है। न्यूज एजेंसी एएफपी ने यह दावा किया है। पिछले एक हफ्ते में घाटी में आतंकियों ने कश्मीरी पंडित, हिन्दू और सिख समुदाय के लोगों के साथ स्थानीय नागरिकों को भी निशाना बनाया है। उन्होंने 7 लोगों की हत्या कर दी।

न्यूज एजेंसी के मुताबिक, एक पुलिस अधिकारी ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर बताया है कि हिरासत में लिए गए 500 लोगों के प्रतिबंधित धार्मिक और आतंकी समूहों से लिंक हैं। उन्होंने कहा कि आम लोगों के हत्यारों को खोजने में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी।

युवाओं को भड़काने के आरोप में मैगजीन के ठिकानों पर रेड राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने रविवार को जम्मू-कश्मीर में 16 जगहों पर छापेमारी की। ये छापे श्रीनगर, अनंतनाग, कुलगाम और बारामूला में मारे गए। यह कार्रवाई वॉइस ऑफ हिंद मैगजीन के पब्लिकेशन और आईईडी की बरामदगी मामले में की गई है। मैगजीन पर युवाओं को भड़काने वाला कंटेंट पब्लिश करने का आरोप है। यह मैगजीन फरवरी, 2020 से हर महीने ऑनलाइन पब्लिश हो रही है।

हाल में कश्मीर में हुए आतंकी हमले : जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में आतंकियों ने ईदगाह इलाके में एक स्कूल में घुसकर दो टीचर्स की हत्या कर दी थी। इनमें प्रिंसिपल सुपिंदर कौर और शिक्षक दीपक चांद शामिल थे। सुपिंदर सिख समुदाय से और दीपक चांद अल्पसंख्यकों की कॉलोनियों में सुरक्षा बढ़ाई गई

घाटी के सभी जिलों में संवेदनशील स्थानों पर सुरक्षा बढ़ाने के साथ ही अल्पसंख्यकों की कॉलोनियों में भी सुरक्षा बढ़ाई गई है। कुछ नाके बढ़ाए गए हैं, जहां से आने जाने वाले प्रत्येक की तलाशी ली जा रही है। सूत्रों ने बताया कि टारगेट किलिंग की घटनाओं के बाद पूरी घाटी में छापे मारकर संदिग्धों को पुलिस ने उठाया है। बताते हैं कि श्रीनगर से 70 युवाओं को उठाया गया है। इनमें से ज्यादातर डाउनटाउन से जुड़े हैं जिनका पत्थरबाजी व अन्य आपराधिक घटनाओं में शामिल रहने का इतिहास रहा है। गांदरबल से 45, शोपियां से 40, बडगाम से 30 युवाओं को हिरासत में लिया गया है। अनंतनाग के बिजबिहाड़ा से भी युवक उठाए गए हैं। पुलिस सूत्रों ने बताया कि फिलहाल पकड़े गए युवाओं से पूछताछ की जा रही है। इनका घटना से फिलहाल कोई संबंध स्थापित नहीं हो पाया है।


Share