जल्द पूरे राजस्थान को कवर करेगा मानसून – उदयपुर के रास्ते किया प्रवेश

बदला मौसम : राजस्थान के कई जिलों में बारिश
Share

इस बार जून में सामान्य से अधिक बारिश का भी रिकार्ड बना है। पूर्वी राजस्थान के जयपुर, भरतपुर व अजमेर संभाग के जिलों में सामान्य बारिश 24 एमएम होती है, लेकिन इस बार यहां वर्षा 23 एमएम हो चुकी है। जून में सबसे गर्म रहने वाले पश्चिमी राजस्थान के बीकानेर, जोधपुर संभाग के जिलों में सामान्य से अधिक बारिश हुई है। सामान्य तौर पर यहां 16.4 एमएम बारिश होती है, लेकिन अब तक 34.1 एमएम बारिश हो चुकी है। पश्चिमी राजस्थान में तो 108 प्रतिशत ज्यादा बारिश हुई है। पूरे राजस्थान में 46 प्रतिशत अधिक बारिश हुई है। हर साल 20 एमएम बारिश होती है, लेकिन इस बार 29.2 एमएम औसत बारिश हुई है।

मानसून की गति अच्छी

इस बार मानसून की गति अच्छी रह सकती है, क्योंकि हवा का दबाव अनुकूल बना हुआ है। शुक्रवार से शुरू हुआ मानसून अगले 10 दिन तक झमाझम बरसने के लिए आतुर है। मानसून पश्चिमी राजस्थान की तरफ बढ़ रहा है। ये पहले पूर्वी राजस्थान के जिलों को भिगोने के बाद आगे बढ़ते हुए पश्चिमी राजस्थान में आएगा। यह बात अलग है कि पश्चिमी राजस्थान के बीकानेर, जोधपुर संभाग में पहले से बारिश अच्छी हो चुकी है।

जल्द पूरे राजस्थान को कवर करेगा मानसून

मौसम विभाग जयपुर के कार्यकारी निदेशक हिमांशु शर्मा ने बताया कि मानसून राजस्थान में प्रवेश कर चुका है। प्रदेशभर के विभिन्न मौसम केंद्रों से शनिवार सुबह आनी वाली रिपोर्ट से तय होगा कि मानसून का आगे का रूख क्या रहेगा? किन जिलों में मानसून बरस सकता है और कहां मूसलाधार या फिर रिमझिम होगी, लेकिन इस बार अच्छा रहेगा। दक्षिणी राजस्थान में जल्द छाने की संभावना है। अभी इतना स्पष्ट है कि राजस्थान की सीमा में मानसून ने प्रवेश कर लिया है। मानसून की उत्तरी सीमा उदयपुर एवं झालावाड़ जिलों से गुजर रही है। अगले 24 घंटे में दक्षिण-पश्चिमी मानसून के दक्षिण राजस्थान के कुछ हिस्सों में आगे बढऩे की अनुकूल परिस्थितियां बनी हुई हैं। उधर, प्री मानसून की बारिश ने पश्चिमी व पूर्वी राजस्थान के कुछ हिस्सों में मानसून की रिहर्सल करा दी है।


Share