गलती हुई नहीं, जानबूझकर की गई थी

'मोदी और नीतीश अगली बार आएं तो पकौड़ा खिला देना'
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। रविवार को नोटबंदी के चार साल पूरे हो गए। काले धन के खिलाफ एक्शन करार देते हुए 8 नवंबर, 2016 की रात 8 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी का ऐलान किया था। वहीं कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी लगातार नोटबंदी को केंद्र सरकार का गलत फैसला ठहराते रहे हैं।

नोटबंदी के चार साल पूरे होने पर राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी के नोटबंदी के फैसले पर फिर सवाल उठाए और भारतीय अर्थव्यवस्था को हुए नुकसान गिनाए। राहुल ने एक वीडियो ट्वीट किया और कहा कि नोटबंदी प्र.म. की सोची समझी चाल थी ताकि आम जनता के पैसे से ‘मोदी-मित्रÓ पूंजीपतियों का लाखों करोड़ रूपये कर्ज माफ किया जा सके। गलतफहमी में मत रहिए-गलती हुई नहीं, जानबूझकर की गई थी। इस राष्ट्रीय त्रासदी के चार साल पर आप भी अपनी आवाज बुलंद कीजिए।

कोविड के बहाने सरकार पर वार

वीडियो में राहुल गांधी ने कहा कि आज हिंदुस्तान के सामने बहुत बड़ा संकट है। कोविड का समय है। सवाल ये है कि बांग्लादेश की इकोनॉमी भारत की अर्थव्यवस्था से आगे कैसे निकल गई? एक समय था जब भारत की इकोनॉमी दुनिया की सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाली अर्थव्यवस्था थी। सरकार अर्थव्यव्यवस्था के ध्वस्त होने की वजह कोविड को बताती है, लेकिन कोरोना वायरस का प्रकोप तो बांग्लादेश में भी है। कोविड तो बाकी दुनिया में भी है, तो फिर हिंदुस्तान पीछे कैसे रह गया? राहुल गांधी ने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था के पिछडऩे का कारण कोविड नहीं है। कारण नोटबंदी है, कारण जीएसटी है। कांग्रेस नेता ने कहा कि चार साल पहले नरेंद्र मोदी ने भारतीय अर्थव्यवस्था पर आक्रमण शुरू किया था। आपके पैर पर कुल्हाड़ी मारी, किसानों, मजदूरों, छोटे दुकानदारों को जबरदस्त चोट आई।


Share