उपद्रवियों ने सड़क किनारे झाडू बनाने वालों के डेरों में भी लगा दी आग

उपद्रवियों ने सड़क किनारे झाडू बनाने वालों के डेरों में भी लगा दी आग
Share

उदयपुर. नगर संवाददाता & डूंगरपुर और उदयपुर में उपद्रवियों द्वारा मचाए गए उत्पात के बाद दौरे पर आई भाजपा की तीन सदस्यीय टीम ने डूंगरपुर में उदयपुर व डूंगरपुर जिला कलेक्टर पर स्पष्ट आरोप लगाया कि या तो सरकार ने तुम लोगों को रोका है और तुम अधिकारी खुद इस उपद्रव में शामिल हो। इसके साथ ही आरोप लगाया कि बीटीपी ने यह पूरा ड्रामा रचा था और इसी कारण उनके विधानसभा क्षेत्रों में किसी तरह का उपद्रव नहीं हुआ है। इसके साथ ही यह भी स्पष्ट रूप से कहा कि जिसे संविधान ने देना तय कर रखा है उसे उतना ही मिलना चाहिए, किसी अन्य का हक नहीं मारना चाहिए।

उपद्रव के बाद भाजपा प्रदेश ने तीन सदस्यीय टीम का गठन किया। इसमें विधायक मदन दिलावर, चित्तौड़ सांसद सीपी जोशी, उदयपुर सांसद अर्जुनलाल मीणा सहित को मौके पर भेजा था। ये तीनों जनप्रतिनिधि सुबह उदयपुर आए और यहां से खेरवाड़ा गए। खेरवाड़ा में नुकसान का जायजा लिया और स्थानीय व्यापारियों से भी बात की। व्यापारियों ने इस टीम को उनके साथ हुई घटना की जानकारी दी और नुकसान होना बताया। इसके बाद ये सभी डूंगरपुर पहँुचे, जहां पर जिला कलेक्टर कानाराम और उदयपुर जिला कलेक्टर चेतन देवड़ा के साथ बैठक की। इस दौरान सारा घटनाक्रम पूछा और इस घटनाक्रम में कौन-कौन दोषी है यह भी पूछा। करीब दो घंटे तक चली बैठक के बाद विधायक मदन दिलावर ने दोनों कलेक्टरों को स्पष्ट रूप से कहा कि ‘या तो तुम्हे सरकार ने रोका है या तुम खुद इस शामिल थे। इसी कारण यह मामला यहां तक पहुँचा है। मदन दिलावर ने स्पष्ट रूप से कहा कि ‘तीन दिन में उपद्रवियों के खिलाफ कार्यवाहही करनी होगी और ऐसा नहीं करने पर आगे जवाब देने के लिए तैयार रहना होगा।

इसके साथ ही कहा कि ‘हम आदिवासियों के खिलाफ नही है, लेकिन संविधान ने जिसे जितना दिया है उसे उतना ही मिलना चाहिए।

इसके बाद विधायक मदन दिलावर से बातचीत में उन्होंने कहा कि यह सारा ड्रामा बीटीपी का रचा हुआ है उन्होंने ही आंदोलन कारियों को भड़काया और यह हंगामा करवाया। मदन दिलावर ने कहा कि बीटीपी के दोनों विधायकों ने गहलोत सरकार बचाई थी, इसी कारण अधिकारी भी आंखे मूंदकर बैठे रहे। दिलावर ने कहा कि क्या खुफिया तंत्र को यह नहीं पता था कि इतने दिनों से जो इन लोगों को खाना दिया जा रहा है वह कहां से आ रहा है और कौन-कौन अधिकारी या जनप्रतिनिधि इन आंदोलन कारियों से मिलने के लिए आ रहा था।

दिलावर ने कहा कि बीटीपी के विधायकों के विधानसभा क्षेत्रों में कोई उपद्रव नहीं हुआ है, इससे यह स्पष्ट हो रहा है कि यह बीटीपी का ही प्रायोजित किया गया है। इसके साथ ही कहा कि कुछ लोग नक्सली क्षेत्र से ट्रेनिंग लेकर आए थे और लोगों को भड़काया। मदन दिलावर ने कहा कि करीब 50 करोड़ रूपए का नुकसान हुआ है और इस नुकसान की भरपाई उपद्रवियों से ही करवाई जाए। चाहे उनके मकान, जमीन और सम्पति को ही क्यों ना बेचना पड़े और जिसके पास ये नहीं उसे जेल में डाल देना चाहिए ताकी दूसरों को भी सबक मिले।

प्रतिनिधि मण्डल सोमवार दोपहर में खेरवाड़ा पहुंचा जहां उन्होने बस स्टेण्ड़, श्रीनाथ बैग्लोज भुवाली, शिशोद, में हुई लूटपाट, आगजनी के शिकार लोगों से मुलाकात की। तथा वहां हुए नुकसान के बारे में जानकारी ली तो इस दौरान अपना दु:ख बया करते कई व्यापारी छलक उठे। और राज्य सरकार पर पूरे घटनाक्रम में मूकदर्शक होने का आरोप भी लगाया।

इसके पश्चात प्रतिनिधि मण्डल डूंगरपुर पहुंचा जहां कलेक्ट्रेट में डूंगरपुर कलक्टर कानाराम व उदयपुर कलेक्टर चेतन
देवडा को राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौपा। प्रतिनिधि मण्डल में उदयपुर सांसद अर्जुनलाल मीणा, चित्तोड़ सांसद सीपी जोशी, डूंगरपुर जिलाध्यक्ष प्रभु पण्डया, प्रदेश महामंत्री सुशील कटारा, जनजाति मोर्चा के प्रदेश मंत्री अमृत कलासुआ, पूर्व विधायक नानालाल अहारी, चुन्नीलाल गरासिया, हेमराज मीणा, उदयपुर जिला महामंत्री जगपालसिंह राठौड, डूंगरपुर धनपाल जैन, शांतिलाल पण्डया, आ िउपस्थित थे।


Share