27वें सप्ताह में नाबालिग को मिली गर्भपात की अनुमति, राजस्थान हाईकोर्ट ने दिया आदेश

Minor gets permission for abortion in 27th week
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। राजस्थान उच्च न्यायालय ने एक नाबालिग लड़की कथित बलात्कार पीडि़ता को गर्भावस्था के 27वें सप्ताह में गर्भपात कराने की अनुमति दी है। यह आदेश मेडिकल बोर्ड द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट के आधार पर दिया गया। लड़की ने उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर की थी जिसमें उसके द्वारा किए जा रहे गर्भ को समाप्त करने और गर्भावस्था के समापन से पहले और बाद में उचित देखभाल और सावधानी के साथ आवश्यक चिकित्सा देखभाल करने की प्रार्थना की गई थी। हाईकोर्ट ने पहले पीडि़ता का मेडिकल परीक्षण कराने का निर्देश दिया था। सुनवाई के दौरान अतिरिक्त महाधिवक्ता मनीष व्यास ने अदालत में एक मेडिकल बोर्ड की रिपोर्ट पेश की। इसमें कहा गया कि किशोर गर्भावस्था में उम्र में रिस्क के साथ गर्भपात किया जा सकता है। मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेगनेंसी (एमटीपी) एक्ट 20 हफ्ते तक के गर्भ को खत्म करने की इजाजत देता है। लेकिन विशेष परिस्थितियों में कोर्ट उसके बाद भी गर्भपात की इजाजत दे सकता है। व्यास ने यह भी कहा कि याचिकाकर्ता द्वारा उसकी गर्भावस्था को समाप्त करने के लिए सहमति दी गई है।


Share