बाड़मेर में राजमार्ग पर आपात स्थिति में उतरेंगे सैन्य विमान

काबुल से 120 से अधिक भारतीय राजनयिकों के साथ IAF का C-17 विमान गुजरात में उतरा
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। देश में पहली बार वायुसेना के विमानों को आपात स्थिति में राष्ट्रीय राजमार्ग पर उतारने की तैयारी पूरी की गयी है तथा रक्षा मंत्री राजनाथ ङ्क्षसह और सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी गुरूवार को बाड़मेर में इस सुविधा का उद्घाटन करेंगे।

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने बताया कि ङ्क्षसह और गडकरी बाड़मेर के दक्षिण में गांधव-बाखासर सेक्शन-राष्ट्रीय राजमार्ग-925 पर के लिए एमरजेंसी लैंङ्क्षडग फील्ड-ईएलएफ का उद्घाटन करने के बाद वहां इस सुविधा का अवलोकन करेंगे। परियोजना से बाड़मेर और जालौर जिले के सीमावर्ती गांवों के बीच संपर्क में सुधार होगा और इससे पश्चिमी सीमावर्ती क्षेत्र में सेना की सतर्कता बढ़ेगी।

मंत्रालय ने बताया कि इस आपात लैंङ्क्षडग पट्टी के अलावा सेना की सुविधा के लिए हेलीपैड का भी निर्माण किया गया है। सेना तथा वायु सेना की जरूरतों को ध्यान में रखते हुये कुंदनपुरा, ङ्क्षसघानिया और भाखासर गांवों में 100 गुणा 30 मीटर आकार के तीन हेलीपैड भी बनाये गये हैं। इस निर्माण से भारतीय सेना तथा देश की पश्चिमी अंतरराष्ट्रीय सीमा पर सुरक्षा तंत्र को मजबूती मिलेगी।

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण-एनएचएआई ने राष्ट्रीय राजमार्ग-925-ए पर सत्ता-गांधव में राजमार्ग के 3 किमी लंबे हिस्से का निर्माण वायु सेना के लिये ईएलएफ के रूप में किया गया है। लैंङ्क्षडग सुविधा, अभी हाल में विकसित खंडज़े से बने ऊंचे किनारे वाले फुटपाथ के रूप में दो लेन के गगरिया-भाखासर तथा सत्ता-गांधव सेक्शन का हिस्सा है जिसकी कुल लंबाई 196.97 किमी है और इसके निर्माण पर 765.52 करोड़ रू. की लागत आई है। इसका निर्माण भारतमाला परियोजना के तहत निर्मित किया गया है। मंत्रालय ने बताया कि इसका निर्माण जुलाई 2019 में शुरू हुआ और जनवरी 2921 में इसे पूरा किया गया है। वायुसेना और एनएचएआई की देखरेख में यह निर्माण कार्य हुआ है। वायुसेना जब चाहे अपनी गतिविधियों के लिये ईएलएफ का उपयोग कर सकेगी और बाकी समय में सामान्य यातायात के लिये इसका इस्तेमाल किया जा सकेगा।


Share