प्री-मानसून की पहली बारिश ही तर कर गई मेवाड़-वागड़

उदयपुर के मानसून का कोटा अगस्त में ही पूरा हुआ, पूरे सीजन में 591 मिमी बरसात होनी थी, अब तक 667 मिमी हुई
Share

आसपुर 5, गढी 4, सलूम्बर 4 इंच बारिश, धरियावद-लोहारिया-खेरवाड़ा में भी 2 इंच से ज्यादा बारिश, बारिश से पहले चली तेज आंधी से कई जगह नुकसान, खेतों में भरा पानी

उदयपुर (कार्यालय संवाददाता)।  राजस्थान में तेज गर्मी और हीटवेव से परेशान लोगों को शनिवार देर रात प्री-मानसून की बारिश की शुरूआत से राहत मिली। उदयपुर, कोटा, जोधपुर और अजमेर संभाग के 9 जिलों में  शविार रात व रविवार सुबह के बीच तेज बरसात हुई। इससे कई क्षेत्र तरबतर हो गए। डूंगरपुर के आसपुर कस्बे में सबसे ज्यादा 129 मिमी (5 इंच) बारिश दर्ज की गई। बांसवाड़ा के गढ़ी में 115 मिमी (4 इंच से ज्यादा) बरसात हुई। उदयपुर के सलूम्बर  व प्रतापगढ़ के धरियावद में भी 100 मिमी से ज्यादा बारिश हुई। मौसम विभाग के अनुसार अगले 2-3 दिन उदयपुर, कोटा और अजमेर संभाग के 14 जिलों में प्री-मानसून में अच्छी बारिश होने की उम्मीद है। मौसम केन्द्र के मुताबिक शनिवार रात बांसवाड़ा, डूंगरपुर, उदयपुर, पाली, राजसमंद, बारां, चित्तौडग़ढ़, कोटा, बूंदी के 15 से ज्यादा इलाकों में बारिश हुई। उदयपुर के गढ़ी, सलूम्बर, खेरवाड़ा, गोगुंदा, सरेरा, राजसमंद के देवगढ़, कुंभलगढ़, बांसवाड़ा के दानपुर, जगपुरा, बारां के अटरू में बारिश हुई। चित्तौडग़ढ़ के बेंगू, कोटा के दीगोद, बूंदी के पाटन और पाली के तखतगढ़ समेत कई जगह 1 मिमी से लेकर 115 मिमी तक बरसात हुई। बरसात से डूंगरपुर, बांसवाड़ा, उदयपुर के कई ग्रामीण इलाकों में खेत पानी से भर गए। वहीं, लम्बे समय से सूखे पड़े बरसाती नालों में पानी बहने लगा। पानी की किल्लत से परेशान पाली जिले के मारवाड़ जंक्शन में भी 19 मिमी बारिश हुई। झीलों की नगरी उदयपुर में भी रविवार के दिन भर बारिश का माहौल बना मगर बादल नहीं बरसे। हालांकि कुछ जगहों पर शाम को बूंदाबांदी हुई। मौसम में नमी बढऩे व तेज बारिश नहीं होने से लोग पसीना-पसीना हो गए। आसुपर के गलियाना में  आकाशीय बिजली गिरने रायणा निवासी रामजी पुत्र दलजी घायल हो गया। वहीं घर के बिजली मीटर, इनवर्टर सहित पूरी वायरिंग जलकर राख हो गई। गांव के 4 घरों में पंखे सहित कई बिजली उपकरण जलकर राख हो गए।

आंधी से कई जगह नुकसान

देर रात हुई बारिश से पहले आंधी चली, जिससे कई जगह नुकसान हुआ। करीब 40 किमी की गति से तेज हवा चलने के कारण बांसवाड़ा के कुशलबाग मैदान में चल रहे मैंगो फेस्टिवल के टेंट उड़ गए। कुशलबाग जीएसएस पर पेड़ गिरने से बिजली गुल हो गई। भीलवाड़ा, चित्तौडग़ढ़, उदयपुर में भी तेज हवाओं का जोर रहा।

डूंगरपुर में डेढ़ घंटे तक बारिश

डूंगरपुर। डूंगरपुर में शनिवार आधी रात को प्री-मानसून की बारिश हुई। करीब डेढ़ घंटे तक तेज बरसात से कई जगहों पर खेत पानी से लबालब हो गए। फसलों की बुवाई के लिए बारिश के इंतजार में बैठे किसानों के चेहरे भी खिल उठे।  तेज बारिश के बाद सड़कों पर पानी बहने लग गया। करीब डेढ़ घंटे तक तेज बारिश का दौर चलता रहा। इससे सूखे खेत भी पानी से लबालब हो गए। डूंगरपुर शहर समेत आसपास के ग्रामीण क्षेत्र में बारिश हुई। खरीफ की फसल के लिए किसानों को बारिश का इंतजार था।  बारिश होते ही शहर से लेकर ग्रामीण इलाकों में बिजली गुल हो गई, जिससे लोग परेशान हुए।  डूंगरपुर में सबसे ज्यादा 5 इंच (129 मिमी) बारिश आसपुर में रिकॉर्ड हुई। गणेशपुर में 64 मिमी, सागवाड़ा में 19 मिमी, सीमलवाड़ा में 6 मिमी, झोथरी में 8 मिमी, बिछीवाड़ा में 23 मिमी, चिखली में 8 मिमी, साबला में 6 मिमी, निठाउवा में 9मिमी बारिश दर्ज की गई है।

15 तक बारिश की संभावना

जयपुर मौसम केन्द्र के निदेशक राधेश्याम शर्मा ने बताया कि 15 जून तक राजस्थान के दक्षिणी-पूर्वी हिस्से में मौसम ऐसा ही बना रहने की संभावना है। रविवार को बारां, कोटा, सवाई माधोपुर, प्रतापगढ़, उदयपुर, चित्तौडग़ढ़, बांसवाड़ा, डूंगरपुर के अलावा पाली, जालोर, नागौर, जोधपुर, टोंक, भीलवाड़ा, राजसमंद समेत कई जगहों पर बादल छाने के साथ तेज हवा चलने और बारिश होने की संभावना है।


Share