मास्टर भंवरलाल का निधन

मास्टर भंवरलाल का निधन
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता एवं आपदा प्रबंधन मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल का सोमवार शाम को निधन हो गया। वह 72 वर्ष के थे।

मास्टर मेघवाल गुरूग्राम में लम्बे समय से मेदांता अस्पताल में भर्ती थे। करीब छह महीने पहले अस्वस्थ होने पर उन्हें जयपुर के सवाई मान ङ्क्षसह अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां सुधार नहीं होने पर उन्हें मेदांता अस्पताल भेजा गया। तभी से वह वहां उपचाररत थे। उन्हें लम्बे समय से वेंटिलेटर पर रखा गया जा रहा था। देर शाम को उन्होंने अंतिम सांस ली।

मास्टर भंवरलाल मेघवाल के निधन के बाद कांग्रेस के मंगलवार को होने वाले सभी कार्यक्रम स्थगित कर दिये गये हैं। मंगलवार को राजकीय शोक रहेगा।  चुरू जिले के सुजानगढ़ के विधायक मास्टर भंवरलाल मेघवाल की छवि एक कुशल प्रशासक की मानी जाती थी। वह मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की पिछली सरकार में शिक्षा मंत्री थे।  वह कांग्रेस में इंदिरा गांधी के समय से ही जुड़ गये थे। शेखावाटी और बीकानेर संभाग में दलितों पर उनका खासा प्रभाव था। पिछले दिनों ही मास्टर भंवरलाल मेघवाल की बेटी बनारसी मेघवाल का निधन हो गया था। उनके निधन पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गहरा दुख प्रकट करते हुए कहा कि वर्ष 1980 से उनका मास्टर मेघवाल का साथ था। उन्होंने इस दुख की घड़ी में मास्टर मेघवाल के परिजनों को ढांढस बंधाते हुए उन्हें यह दुख सहने की शक्त प्रदान करने की कामना की।

मुख्यमंत्री ने मास्टर भंवरलाल मेघवाल के निधन पर संवेदना व्यक्त की

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री मास्टर भंवर लाल मेघवाल के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है।

गहलोत ने अपने संवेदना संदेश में कहा कि लम्बी बीमारी के बाद आज हमारे साथी केबिनेट मंत्री मास्टर भंवर लाल मेघवाल के निधन की खबर सुनकर बहुत गहरा दु:ख हुआ। वर्ष 1980 से स्व. मास्टर भंवर लाल मेघवाल और मेरा साथ रहा है। जनहित से जुड़े मुद्दों एवं दलित समाज के हित से जुड़ी समस्याओं को उन्होंने हमेशा प्रमुखता से उठाया। अपनी प्रतिभा एवं लगन से उन्होंने सार्वजनिक जीवन में विशिष्ट पहचान बनाई। प्रदेश में विभिन्न महत्वपूर्ण मंत्रालयों के मंत्री के रूप में उनकी उल्लेखनीय सेवाओं को सदैव याद किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने ईश्वर से दिवंगत की आत्मा की शांति तथा दु:ख की इस घड़ी में शोक संतप्त परिजनों को यह आघात सहन करने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की है।


Share