शहीद कुलदीप का सैन्य सम्मान से अंतिम संस्कार, पत्नी ने दी मुखाग्नि

Martyr Kuldeep's funeral with military honors, wife gave fire
Share

झुंझुनूं। तमिलनाडु हेलिकॉप्टर हादसे में शहीद स्क्वॉड्रन लीडर कुलदीप सिंह राव का शनिवार को राजस्थान के झुंझुनू में उनके पैतृक गांव में अंतिम संस्कार हुआ। घरों की छतों से लेकर सड़कें तक लोगों से पट गईं।

कुलदीप की पार्थिव देह दिल्ली से एयरफोर्स के विमान में आई। पत्नी यश्विनी और कुलदीप की बहन भी साथ ही आए। यश्विनी ने कुलदीप की तस्वीर सीने से लगा रखी थी। सेना के ट्रक में रखी पार्थिव देह को एकटक देखती रही। सास आई तो उन्हें सीने से लगाकर ढांढस बंधाया। मां ने भी बेटे की तस्वीर को चूमा और सैल्यूट किया। यश्विनी ने चिता को मुखाग्नि दी गई और जय हिंद का जयघोष गूंजने लगा। यश्विनी भी शहीद पति को सैल्यूट करते हुए जय हिंद के नारे लगा रही थी। बहन भी दिल्ली से अपने भाई कुलदीप के पार्थिव शरीर के साथ गांव पहुंची। यहां मां-बाप को हिम्मत दी। घर से जब कुलदीप का पार्थिव शरीर अंतिम संस्कार के लिए ले जाया जा रहा था तो बेटी ने अपने पिता को संभाला। वे पूरे रास्ते अपने पिता का हाथ थामे चलती रहीं।

जनसैलाब उमड़ा, छतों पर पैर रखने की जगह नहीं

हवाई पट्टी से लेकर गांव तक लोगों का जनसैलाब दिखा। गांव से अंतिम यात्रा गुजरी। लोगों ने फूल बरसाए। छतों पर खड़े लोग अपने लाल के अंतिम दर्शन के लिए इंताजर कर रहे थे। हालात ये थे कि पैर रखने की जगह नहीं थी। गांव के चौक में शहीद कुलदीप सिंह का अंतिम संस्कार किया गया।


Share