मोदी समेत कई राष्ट्राध्यक्षों ने हिंसा पर चिंता जताई

COVID-19 महामारी के बीच पीएम मोदी की लोकप्रियता बढ़ी
Share

वाशिंगटन (एजेंसी)। अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव परिणाम को लेकर ट्रंप समर्थक और पुलिस के बीच कैपिटल परिसर में बुधवार को हुई खूनी झड़प की दुनियाभर में निंदा की जा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई राष्ट्राध्यक्षों ने वाशिंगटन में हुई हिंसा पर चिंता व्यक्त की है। अमेरिका के अन्य सहयोगी देशों ने भी इसे लोकतंत्र पर हमला बताया है। कुछ ने कहा है कि उन्हें भरोसा है कि अमेरिका की लोकतांत्रिक व्यवस्था इससे उबर आएगी। कुछ नेताओं ने निर्वतमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की तीखी आलोचना की। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुतारेस के प्रवक्ता ने कहा कि महासचिव वाशिंगटन डीसी के यूएस कैपिटल में हुई घटनाओं से दुखी हैं। संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने कहा कि ऐसी स्थिति में, यह महत्वपूर्ण है कि राजनीतिक नेता अपने समर्थकों को हिंसा से दूर रहने और लोकतांत्रिक प्रक्रिया और कानून के शासन में विश्वास करने के लिए राजी करें।

मोदी ने कहा, ये लोकतंत्र के लिए दुर्भाग्यपूर्ण

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी अमेरिका के वाशिंगटन में कैपिटल बिल्डिंग में हंगामा और हिंसा पर चिंता व्यक्त की है। प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर कहा कि वाशिंगटन डीसी में हिंसा और दंगे की खबरों से चिंतित हूं। सत्ता का सुव्यवस्थित और शांतिपूर्ण हस्तांतरण जारी रहना चाहिए। लोकतांत्रिक प्रक्रिया को गैरकानूनी प्रदर्शनों के जरिए बदलने की अनुमति नहीं दी जा सकती। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने ट्वीट किया, अमेरिकी संसद में अशोभनीय दृश्य देखने को मिले। अमेरिका विश्व भर में लोकतंत्र के लिए खड़ा रहता है। यह महत्वपूर्ण है कि सत्ता हस्तांतरण शांतिपूर्ण और तय प्रक्रिया के तहत उचित तरीके से हो।

ट्रंप फैसले को स्वीकार करें

जर्मनी के विदेश मंत्री ने ट्विटर पर लिखा, ट्रंप और उनके समर्थकों को अमेरिकी मतदाताओं के फैसले को स्वीकार कर लेना चाहिए और लोकतंत्र पर हमला बंद करना चाहिए। भड़काऊ बयानों से हिंसक घटनाएं हुईं। लोकतांत्रिक संस्थाओं की अवहेलना का खतरनाक परिणाम होता है।


Share