घाटकोपर में चातुर्मास समापन पर मंगल भावना समारोह

Mangal sentiment ceremony at the conclusion of Chaturmas in Ghatkopar
Share

मुंबई। घाटकोपर तेरापंथ भवन में चातुर्मास समापन के अवसर पर मंगल भावना समारोह रखा गया। स्वागत सभाध्यक्ष शांतिलाल बाफना ने किया। साध्वी मनीषा प्रभा ने कहा कि कि मेरे इलाज हेतु यह क्षेत्र साताकारी रहा और एकदम स्वस्थ हो गई हूं। साध्वी संयमलता में गीतिका द्वारा घाटकोपर की सेवा भक्ति का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि घाटकोपर को तेरापंथ की राजधानी यूँ ही नहीं कहा जाता। उच्च शिखर पर घाटकोपर का जो स्थान है उसे आगे भी कायम रखेंगे, यह भावना व्यक्त की। घाटकोपर में ही मर्यादा महोत्सव हो इस पर विशेष प्रेरणा दी। साध्वी मार्दवश्री ने कहा कि घाटकोपर की सेवा भक्ति बेजोड़ थी। डॉ सुंदर इटोदिया, डॉ नेहा नवलखा, डॉ नीलेश चोरडिया की सेवाओं की प्रशंसा की। मोक्ष डांगी, सीमा डूंगरवाल, देवेंद्र मेहता, पुखराज बाफना, बसंत कच्छारा, रीना संचेती, नीलू  ढीलीवाल, विकास बोथरा, चंद्रप्रकाश बोहरा, मनसुख चपलोत, राकेश बडाला ने विचार रखे। अअणुविभा सोसाइटी के नवनिर्वाचित अध्यक्ष अविनाश नाहर, मुंबई सभा अध्यक्ष मदनलाल तातेड, पूर्व अध्यक्ष नरेंद्र तातेड, कोषाध्यक्ष हस्तीमल डांगी, वरिष्ठ उपाध्यक्ष कुमुद कच्छारा, महिला मंडल कोषाध्यक्ष सुनीता सुतरिया, घाटकोपर सहसंयोजिका निधि लोढा ने
 कृतज्ञता ज्ञापित की। घाटकोपर महिला मंडल से कनक सुर संगम टीम के विदाई गीत से माहौल भावुक हो गया। इशिका धाकड़ एवं श्रेया चपलोत ने साध्वी वृंद की विशेषताओं का उल्लेख किया। मनोज सिंघवी, रमेश सुतरिया, प्रकाशदेवी तातेड, कांता तातेङ, भारती कच्छारा की उपस्थिति रही। युवक परिषद अध्यक्ष राजेश सिंघवी ने आभार प्रकट किया।
संचालन भावना चपलोत ने किया।

Share