मेवाड़ भवन में हुआ महामांगलिक का कार्यक्रम

Mahamanglik's program held in Mewar Bhavan
Share

मुम्बई। गोरेगांव में अरिष्ठनेमी अनुष्ठान के बाद मौन साधना में चल रहे महासती कुमुदलता महाराज ने नवरात्रि के बाद दशहरे पर उपस्थित जनसमुदाय को महामांगलिक प्रदान करते हुए आशीर्वाद प्रदान किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि नवरात्रि का अवसर शक्ति की आराधना का पर्व है। धर्म की प्राप्ति के लिए भी शक्ति की आवश्यकता होती है इसलिए इस काल अवधि में की गई धर्म आराधना हमें अपने आध्यात्मिक लक्ष्य की ओर ले कर जाती हैं। नवरात्रि के दौरान ईश्वर के नारायणी स्वरूप का ध्यान मनन व जप के माध्यम से हम अपने अंदर उर्जा का संचार महसूस कर सकते हैं। महासती पद्म कीर्ति महाराज ने मैना सुंदरी के जीवन चरित्र का वाचन करते हुए उनकी जीवन यात्रा पर प्रकाश डाला। महासती महाप्रज्ञा  महाराज ने नवकार मंत्र को भजन के रूप में सुना कर लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया। राजकीर्ति महाराज ने भी विचार व्यक्त किए।

Mahamanglik's program held in Mewar Bhavan

इस अवसर पर 23 अक्टूबर को होने वाले घंटाकर्ण अनुष्ठान के बारे में जानकारी दी गई। कार्यक्रम में मेवाड़ संघ अध्यक्ष नेमीचंद धाकड़ महामंत्री महावीर तातेड कोषाध्यक्ष लक्ष्मी लाल बडालमिया, मेवाड़ भवन महिला मंडल कन्या मंडल नवयुवक मंडल स्वास्थ्य समिति सहित तमाम संस्थाओं के पदाधिकारियों की उपस्थिति रही।


Share