बिहार में बनेगी महागठबंधन सरकार, नीतीश ने पेश किया सरकार बनाने का दावा, 164 विधायकों के समर्थन का पत्र दिया,

बिहार में बनेगी महागठबंधन सरकार, नीतीश ने पेश किया सरकार बनाने का दावा, 164 विधायकों के समर्थन का पत्र दिया,
Share

तेजस्वी ने कहा- भाजपा जिसके साथ, उसे ही खत्म करती है; पंजाब-महाराष्ट्र इसकी नजीर | नीतीश कुमार आज  2 बजे 8वीं बार लेंगे सीएम पद की शपथ

पटना (एजेंसी)। बिहार में भाजपा और जेडीयू का गठबंधन टूटने के बाद नई सरकार बनने का रास्ता साफ हो चुका है। नीतीश कुमार बुधवार को दोपहर 2 बजे सीएम पद की शपथ लेंगे। मंगलवार शाम को नीतीश कुमार ने राज्यपाल फागू चौहान को 164 विधायकों के समर्थन की चिट्ठी सौंपी। इस मौके पर तेजस्वी यादव भी उनके साथ राजभवन में मौजूद थे। सरकार बनाने का दावा पेश करने के बाद नीतीश और तेजस्वी ने राजभवन में ही प्रेस कॉन्फ्रेंस की। नीतीश कुमार ने कहा कि उन्होंने राज्यपाल को 7 पार्टियों के 164 विधायकों के समर्थन का पत्र दिया है। तेजस्वी ने कहा- भाजपा का कोई गठबंधन सहयोगी नहीं है, इतिहास बताता है कि भाजपा उन दलों को नष्ट कर देती है जिनके साथ वह गठबंधन करती है। हमने देखा कि पंजाब और महाराष्ट्र में क्या हुआ।

नीतीश राजभवन में बुधवार दोपहर दो बजे आठवीं बार बिहार के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेंगे। जबकि राजद नेता तेजस्वी यादव डिप्टी सीएम पद की शपथ लेंगे। हालांकि पहले शपथ ग्रहण का समय शाम 4 बजे था लेकिन बाद में दो बजे किया गया है। मीडिया सूत्रों के अनुसार बुधवार सिर्फ नीतीश और तेजस्वी ही शपथ लेंगे। कैबिनेट विस्तार बाद में किया जाएगा।

भाजपा-जदयू का 21 महीने पुराना गठबंधन टूटा

नीतीश के इस कदम के बाद भाजपा और जदयू का 2020 में बना गठबंधन टूट गया है। इस्तीफा सौंपने के बाद नीतीश ने राजभवन में कहा था कि पार्टी के विधायकों और सांसदों ने एक स्वर में एनडीए से गठबंधन तोडऩे की बात कही है।

तेजस्वी को मिल सकती है डिप्टी सीएम की कुर्सी

सूत्रों के मुताबिक तेजस्वी यादव डिप्टी सीएम होंगे। कांग्रेस को स्पीकर की कुर्सी मिल सकती है। कांग्रेस विधायक शकील अहमद खान कह चुके हैं कि नीतीश कुमार ही महागठबंधन के मुख्यमंत्री होंगे। सब कुछ तय हो गया है।

पहली बार 160 विधायकों के समर्थन की चिट्ठी दी थी

सीएम नीतीश कुमार ने मंगलवार शाम 4 बजे राज्यपाल फागू चौहान को अपना इस्तीफा सौंपा था। उस समय नीतीश ने 160 विधायकों के समर्थन की बात कहते हुए सरकार बनाने का दावा पेश किया था। इसके बाद वे राबड़ी देवी के आवास पहुंचे, जहां उन्हें महागठबंधन का नेता चुना गया। यहां जीतन राम मांझी की पार्टी ‘हम’ भी नीतीश के साथ आ गई। उसके पास 4 विधायक हैं। इसके बाद नीतीश और तेजस्वी एक बार फिर राज्यपाल से मिले।


Share