यू ट्यूब देख एटीएम कार्ड का क्लोन बनाना सीखा

यू ट्यूब देख एटीएम कार्ड का क्लोन बनाना सीखा
Share

अमरोहा (एजेंसी)। यूपी के अमरोहा में पुलिस ने एटीएम कार्ड का क्लोन तैयार कर स्वाइप मशीन से ठगी करने के 4 आरोपियों को गिफ्तार किया है। पकड़े गए चारों आरोपी हरियाणा के रहने वाले हैं। इन लोगों ने यूट्यूब के जरिये क्रेडिट और डेबिट कार्ड के क्लोन बनाने का तरीका सीखा था। उनके कब्जे से कार, 14 डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड स्वाइप मशीन, तीन मोबाइल फोन और तमंचे भी बरामद किए।

एएसपी अजय प्रताप सिंह ने बताया कि कोतवाली पुलिस ने चौधरपुर में पंजाब नेशनल बैंक के पास से कार सवार चार आरोपियों को पकड़ा। आरोपी हरियाणा राज्य के हिसार जिले के नारदोह थाना क्षेत्र के निवासी संजीव कुमार पुत्र रोशन, राजथल निवासी महेंद्र पुत्र जगदीश, अमरजीत पुत्र राजवीर, रमेश कुमार पुत्र बलेराम हैं। कार से 14 एटीएम व डेबिट कार्ड, स्विप मशीन, तीन मोबाइल फोन बरामद किए। इसके अलावा तीन तमंचे और सात कारतूस भी मिले।

एएसपी ने बताया कि घटनाओं को अंजाम देने से पहले संजीव ने यूट्यूब के जरिए एटीएम कार्ड का क्लोन तैयार करने की जानकारी हासिल कर अपने साथियों को भी जानकारी दी। फिर आरोपियों ने गुजरात के अहमदाबाद से ऑनलाइन बुकिंग कर स्वाइप मशीन एमएसआर-6 मंगाई। उसे मोबाइल में डाउनलोड किया। इसके बाद वारदात को अंजाम देते थे। पकड़े गए आरोपी उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान, पश्चिम बंगाल, बिहार आदि राज्यों में लोगों को शिकार बनाते थे। रिपोर्ट दर्ज कर चालान किया जा रहा है। आपराधिक इतिहास भी खंगाला जा रहा है। पुलिस टीम में कोतवाल शरद मलिक, दरोगा संजय कुमार, सिपाही रविश कुमार, विकास कुमार शामिल रहे।

रात 12 बजे के आसपास निकालते थे पैसे

एएसपी ने बताया कि आरोपी मोबाइल फोन में ईएसवाई एमएसआई एप को डाउनलोड कर यूट्यूब पर वीडियो देखकर स्वाइप मशीन को ब्लूटुथ से अपने मोबाइल में कनेक्ट कर लेते हैं। इसके बाद कार्ड चला रहे व्यक्ति को अपनी बातों में लगाकर उसके कार्ड को अपनी स्वाइप मशीन में स्वाइप कर लेते हैं। रात को तकरीबन 12 बजे क्लोन एटीएम कार्ड के जरिए पैसा निकाल लेते, जिससे पीडि़त के पास मैसेज पहुंचे तो वह देख न पाए और एटीएम कार्ड ब्लॉक न कर सके।
थाना, चौकी से दूर करते थे वारदात

एएसपी ने बताया कि पकड़े गए आरोपी बेहद शातिर हैं। चौकी और थानों से दूर कम भीड़ भाड़ वाले स्थानों पर लोगों को शिकार बनाते हैं। सुरक्षा के लिहाज से अपने पास अवैध हथियार रखते हैं। घटना के दौरान किराए की गाड़ी इस्तेमाल करते हैं। गाड़ी का नंबर बदलते थे।


Share