कोहली ने बताया क्यों छोड़ी आरसीबी की कप्तानी : बोले- वर्कलोड को मैनेज नहीं कर पा रहा था

रोहित को कप्तानी, कोहली को आराम, हार्दिक की छुट्टी
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)। इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) 2021 के बाद रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू (आरसीबी) की कप्तानी छोडऩे वाले विराट कोहली ने कहा है कि उन्होंने खुद के लिए समय निकालने और वर्कलोड को मैनेज करने के कारण यह फैसला किया था। कोहली ने आईपीएल के साथ-साथ टी-20 फॉर्मेट से टीम इंडिया की कप्तानी छोडऩे की घोषणा भी कर दी थी। विराट ने कहा था, टी-20 वल्र्ड कप भारत के कप्तान के रूप में मेरा आखिरी टूर्नामेंट होगा।  हालांकि बीसीसीआई चाहता था कि विराट भारतीय टीम की कप्तानी करते रहे, लेकिन कोहली के टी-20 फॉर्मेट से कप्तानी छोडऩे के बाद बोर्ड ने उनसे वनडे की कैप्टेंसी भी ले ली थी। बोर्ड ने अपने बयान में कहा था, सफेद बॉल क्रिकेट के दो कप्तान नहीं हो सकते।

मैं उनमें नहीं हूं, जो चीजों को पकड़े रखते हैं

विराट ने आरसीबी की कप्तानी छोडऩे के बारे में कहा, मैं उन लोगों में शामिल नहीं हूं, जो चीजों को पकड़े रखना चाहते हैं। यहां तक कि यदि मुझे पता है कि मैं बहुत कुछ कर सकता हूं, लेकिन अगर मैं उस चीज को करने में खुश नहीं हूं, तो फिर मैं वह काम नहीं करूंगा।

लोगों के लिए समझना मुश्किल

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान ने आगे कहा- लोग जब तक आपको समझ नहीं पाए वो आपके फैसले को भी बड़ी मुश्किल से समझते हैं। लोगों को आपसे उम्मीदें होती है। वे कहते हैं ओह यह कैसे हुआ, हम हैरान हैं।

उन्होंने आगे कहा- इसमें हैरान होने जैसी कोई बात नहीं है। मैं लोगों को समझाता हूं कि मुझे अपने लिए भी कुछ समय चाहिए और मैं वर्कलोड को कम करना चाहता था और बात वहीं पर खत्म हो जाती है।

दबाव में नहीं छोड़ी थी कप्तानी

विराट कोहली के आरसीबी की कप्तानी छोडऩे के बाद इस तरह की खबरें सामने आई थी कि कोहली ने दबाव के चलते कैप्टेंसी से इस्तीफा दिया। विराट ने इस पर कहा- वास्तव में ऐसा कुछ नहीं था। मैं अपनी जिंदगी को बहुत सरल तरीके से जीता हूं। मुझे जब फैसले लेने होते हैं, मैं लेता हूं और उनकी घोषणा कर देता हूं।

2013 में बने थे आरसीबी के कप्तान

विराट कोहली को 2013 सीजन से आरसीबी का कप्तान बनाया गया था। उनकी अगुआई में टीम 2016 के फाइनल में तो जरूर पहुंची, लेकिन एक भी खिताब नहीं जीत पाई। विराट ने आईपीएल में 140 मैचों में टीम की कमान संभाली है। इनमें से 64 में आरसीबी को जीत मिली।

69 मैचों में हार का सामना करना पड़ा। 3 मैच टाई रहे और 4 मुकाबलों का कोई नतीजा नहीं निकला।


Share