‘कोहली को अपनी ईगो छोडऩी होगी, युवा कप्तान के अंडर खेलना होगा’

'Kohli has to drop his ego, play under young captain'
Share

नई दिल्ली (एजेंसी)।  भारतीय टेस्ट टीम की कप्तानी छोडऩे के बाद विराट कोहली की आलोचना हो रही है, तो कुछ ऐसे भी लीजेंड्स हैं, जिन्होंने कोहली का सपोर्ट किया है। 1983 वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्य मदन लाल विराट कोहली के फैसले से नाराज दिखे, तो वहीं उसी  वर्ल्ड कप विजेता टीम के कप्तान कपिल देव ने सपोर्ट किया है। कपिल ने कहा कि कोहली को अंहकार छोडऩा होगा, हर कोई जूनियर की कप्तानी में खेला है।

कपिल देव ने कहा कि मैं कोहली के फैसले का स्वागत करता हूं। टी20 की कप्तानी छोडऩे के बाद से ही वह काफी मुश्किल समय से गुजर रहा था। हाल के दिनों में वे काफी तनाव और दबाव में नजर आ रहे हैं। ऐसे में दबाव से फ्री होकर खेलने के लिए कप्तानी छोडऩा ही ऑप्शन था, जो उन्होंने किया।

‘कोहली कप्तानी को एंजॉय नहीं कर रहे थे’

उन्होंने कहा कि कोहली एक परिपक्व व्यक्ति हैं। मुझे पूरा विश्वास है कि यह महत्वपूर्ण फैसला लेने से पहले उन्होंने काफी विचार किया होगा। यह भी हो सकता है कि वे कप्तानी को एंजॉय नहीं कर पा रहे थे। हमें उनका सपोर्ट करना चाहिए और शुभकामनाएं देनी चाहिए।

जूनियर के अंडर खेलने में समस्या नहीं होगी

कपिल देव ने कहा कि जूनियर प्लेयर के अंडर में खेलने पर कोहली को कोई समस्या नहीं होगी। उन्होंने कहा कि सुनील गावस्कर भी मेरे अंडर खेले थे। मैं भी के. श्रीकांत और मोहम्मद अजहरूद्दीन के अंडर खेला था। मुझमें कोई अहंकार नहीं था। विराट भी ईगो को छोड़कर किसी यंग क्रिकेटर के अंडर खेलेंगे। यह उनके करियर और टीम इंडिया के लिए मददगार भी होगा।

विराट नए कप्तान और नए खिलाडिय़ों को गाइड कर सकते हैं। हम विराट जैसे बल्लेबाज को नहीं खो सकते, बिल्कुल नहीं।


Share