ड्रग्स बेचकर खालिस्तानी कमा रहे हैं करोडों

ड्रग्स बेचकर खालिस्तानी कमा रहे हैं करोडों
Share

एनआईए की चार्जशीट में खुलासा, स्मगलिंग से कमाए से हो रही है टैटर फंडिंग

पाक से ऑपरेट हो रहा है  ‘खालिस्तान लिबरेशन फोर्स’, आईएसआई के इशारे पर हवाला ट्रांजेक्शन

जालंधर  (एजेंसी)। पाकिस्तान पंजाब में आतंकवाद का जीवित करने के लिए भयंकर साजिशें कर रहा है। विदेशों में बैठे खालिस्तानी आतंकी और पाकिस्तानी ड्रग माफिया आईएसआई के इशारे पर पहले भारत में ड्रग्स का अरबों का कारोबार कर रहे हैं। इसके बाद जहर बेच कर कमाए इस पैसे को हवाला के जरिए विदेशों में भेजा जाता है, जहां से पंजाब और भारत के विभिन्न हिस्सों में माहौल खराब करने के लिए टैरर फंडिग की जाती है। इस बात का खुलासा राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण एनआईए ने  मोहाली की विशेष अदालत में दायर की गई हाल ही में सप्लीमेंट्री चार्जशीट में किया है। यही नहीं पाकिस्तान अभी भी अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है और कश्मीरी और खालीस्तानी आतंकियों को एकजुट करके पंजाब व देश के अन्य हिस्सों में माहौल खराब करने की कोशिश लगातार कर रहा है।

क्या है चार्जशीट में

चार्जशीट में कहा गया है कि आतंकवादियों ने खालिस्तानी संगठन ‘खालिस्तान लिबरेशन फोर्सÓ के नाम पर ऑस्ट्रेलिया ,इटली, पाकिस्तान ,यूएई और ब्रिटेन से टेरर फंडिंग हासिल की है। एनआईए ने नारको टैरर के मामले में पाकिस्तान से संचालित केएलएफ के आतंकवादी जसवीर सिंह सामरा व धर्मिन्दर सिंह उर्फ धन्ना को 9 लोगों सहित गिरफ्तार किया था। जिसकी पहली चार्जशीट 29 मई 2020 को दाखिल की गई थी।

क्या है मामला

एनआईए की जांच के मुताबिक केएलएफ के आतंकवादी जसवीर सिंह सामरा व धर्मिन्दर सिंह उर्फ धन्ना पाकिस्तान की मदद से पंजाब में हैरोइन की स्मगलिंग कर रहे थे। हेरोइन को बेचकर मिलने वाले पैसे को सामरा के.एल.एफ. के पास पहुंचाता था। इस पैसे से पंजाब के भोले-भाले युवाओं का बहका कर टैरर फंडिंग के लिए इस्तेमाल किया जा रहा था। सामरा और दूसरे आतंकवादियों के कब्जे से पुलिस ने  500 ग्राम हेरोइन और सवा लाख रू. की नकदी भी बरामद की थी। टेरर फंडिंग मामले में केएलएफ प्रमुख हरमीत सिंह उर्फ पीएचडी और दुबई के अंतर्राष्ट्रीय नशा तस्कर और हवाला कारोबारी जसमीत सिंह हकीमजादा का नाम भी समाने आया था। हरमीत सिंह उर्फ पीएचडी की जनवरी 2020 में मौत हो चुकी है।

केएलएफ का प्रमुख बनने की कवायद

हरमीत सिंह उर्फ पीएचडी की लाहौर में इस वर्ष हुई संदिग्ध मौत के बाद उनके प्रमुख पद पर काबिज होने की कवायद तेज हो गई है। खुफिया एजेंसियों के मुताबिक प्रमुख पद के दावेदारों में अंतरराष्ट्रीय सिख यूथ फेडरेशन का प्रमुख लखबीर सिंह रोडे, स्विट्जरलैंड में रह रहा पप्पू सिंह, इटली निवासी गुरजिंदर सिंह शास्त्री, खालिस्तान लिबरेशन फोर्स का प्रवक्ता धन्ना सिंह, गुरूचरणवीर सिंह वाहीवाला और ब्रिटेन निवासी परमजीत सिंह पंजवड़ शामिल हैं। यहां उल्लेखनीय यह है कि लखबीर सिंह रोड़े, ऑपरेशन ब्लू स्टार में मारे गए जरनैल सिंह भिंडरावाले का भतीजा है। पाकिस्तान वर्तमान में आतंकियों की मदद करने के लिए भारत सीमा पर ड्रग्स की जमकर स्मगलिंग करवा रहा है। इससे जमा होने वाले पैसे से ही भारत में ड्रोन के जरिए हथियार पहुंचा रहा है।


Share