‘आइंस्टीन के चाचा बनने की कोशिश कर रहे केजरीवाल’, सिद्धू ने आप के सर्वे पर उठाया सवाल, आयोग से एक्शन लेने को कहा

Share

चंडीगढ़ (एजेंसी)। पंजाब कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू ने सोमवार को आम आदमी पार्टी (आप) के सीएम फेस सर्वे पर सवाल उठाते हुए इसे एक घोटाला और आदर्श आचार संहिता (एमसीसी) का उल्लंघन बताया। बता दें कि आप ने 20 फरवरी को होने वाले पंजाब चुनाव के लिए अपने मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार का चयन करने के लिए एक फोन लाइन सर्वेक्षण किया था। सर्वेक्षण के आधार पर, आप ने संगरूर के सांसद भगवंत मान को अपना सीएम चेहरा चुना। पार्टी ने दावा किया था कि एसएमएस के जरिए मिले वोट में 93 प्रतिशत वोट भगवंत मान के पक्ष में थे।

‘एक सामान्य मोबाइल नंबर चार दिनों में 21 लाख कॉल रिकॉर्ड नहीं कर सकता’

नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि आप ने दावा किया है कि उसे पंजाब के लिए सीएम फेस सर्वे के लिए फोन लाइन पर 21,59 437 प्रतिक्रियाएं मिली हैं। सिद्धू ने दावा किया कि सर्वेक्षण के लिए इस्तेमाल किया गया मोबाइल नंबर एक सामान्य नंबर था, व्यावसायिक नहीं। सिद्धू ने कहा, एक सामान्य मोबाइल नंबर चार दिनों में 21 लाख कॉल, एसएमएस रिकॉर्ड नहीं कर सकता है। सिद्धू ने कहा, आप का दावा है कि उसे सात लाख व्हाट्सएप मैसेज मिले। आप पंजाब के लोगों को बेवकूफ बनाने की कोशिश कर रही है। मैं आप के पाखंड का पर्दाफाश करूंगा।

‘अल्बर्ट आइंस्टीन और गणितज्ञ शकुंतला देवी के चाचा बनने की कोशिश’

आप प्रमुख अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए सिद्धू ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री भौतिक विज्ञानी अल्बर्ट आइंस्टीन और गणितज्ञ शकुंतला देवी के चाचा बनने की कोशिश कर रहे हैं। कांग्रेस पंजाब के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने भारत के चुनाव आयोग (ईसीआई) को ‘फर्जी प्रचार’ के खिलाफ एक पत्र लिखा है। इसमें कहा गया है कि ‘जनता चुनेगी अपना सीएम’ नाम से आप फर्जी प्रचार कर रही है।

चुनाव आयोग से केजरीवाल की शिकायत

उन्होंने कहा कि ये गणितीय रूप से व्यवहार्य नहीं है। कांग्रेस पंजाब अध्यक्ष ने चुनाव आयोग को लिखे एक पत्र में कहा, चुनाव आयोग से अनुरोध है कि आप के खिलाफ उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष अरविंद केजरीवाल के माध्यम से आईपीसी के प्रासंगिक प्रावधानों के तहत आपराधिक मामले दर्ज करें। पंजाब कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू ने आप के मुख्यमंत्री चेहरे के सर्वेक्षण को एक ‘घोटाला’ और आदर्श आचार संहिता (एमसीसी) का उल्लंघन बताया है।


Share