सीता पर विवादास्पद बयान देकर गहलोत के निशाने पर आए कटारिया -‘नेता प्रतिपक्ष कटारिया डिस्टर्ब इंसान’

गहलोत सरकार के प्रमोटी प्रेम से नाखुश हैं र्आइएएस अधिकारी
Share

जयपुर (कार्यालय संवाददाता)। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने देवी सीता पर विवादास्पद टिप्पणी पर नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया पर निशाना साधा है। सीएम गहलोत ने दिल्ली में मीडिया कर्मियों से बात करते हुए कहा कि कटारिया बहुत डिस्टर्ब इंसान है। कुछ भी बोल देते हैं। बोलने से पहले सोचना चाहिए। कटारिया ने महाराणा प्रताप पर भी विवादास्पद बयान दिया। जिसकी वजह से पूरा राजपूत समाज उनसे नाराज है। सीएम गहलोत ने कहा कि कटारिया का मैं सम्मान करता हूं। आरएसएस कैडर के हैं। उन्हें उनकी पार्टी में सम्मान नहीं मिल रहा है।

‘कटारिया से राजपूत समाज नाराज’

सीएम गहलोत ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष कटारिया ने महाराणा प्रताप के बारे में क्या-क्या बोल दिया। राजपूत समाज में रोष है। 36 कौम के अंदर गुस्सा है। क्या हिंदू लोग इस बात को बर्दाश्त करेंगे। कटारिया जी भावुक हो जाते है। सीएम गहलोत ने कहा कि भाजपा का राष्ट्रवाद चुनाव जीतने के लिए। भाजपा का हिंदुत्व चुनाव जीतने के लिए है। जबकि कांग्रेस का हिंदुत्व धार्मिक भावना के आधार पर है। गांधी जी ने भी यही कहा था। उल्लेखनीय है कि हाल में नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने कहा था कि रावण ने सीता का अपहरण कर कोई गुनाह नहीं किया क्योंकि उसने उन्हें छुआ नहीं। बोहेड़ा में आयोजित एक कार्यक्रम में कटारिया के बयान के बाद काफी विवाद हो गया था। विवाद बढऩे के बाद कटारिया ने अपनी सफाई में कहा कि दो लाइन लिखने वालों को पूरा भाषण सुनना चाहिए था।

‘भाजपा में 6 लोग सीएम के दावेदार’

सीएम गहलोत ने कहा कि देश में महंगाई से गरीब आदमी का जीना मुश्किल गया है। आज हर चीज में महंगाई हो रही है। लेकिन प्र.म. मोदी महंगाई रोकने के लिए ठोस योजना नहीं बना पा रहे हैं। सीएम ने कहा कि ‘अबकी बार मोदी सरकार, बहुत हुई महंगाई की मार’ का नारा देने वाले भाजपा नेताओं ने चुप्पी साधी ली है। सीएम ने कहा कि भाजपा में 6 सीएम पद के दावेदार है। वसुंधरा राजे के नाम लिए बिना कहा कि एक प्रमुख दावेदार को तो दरकिनार कर दिया गया है। 6 मुख्यमंत्री पद के दावेदार बनाएंगे तो परिणाम भुगतना पड़ेगा। प्रमुख दावेदार के पीछे धकेल दिया।


Share